China

तिब्बत में 45 प्रतिशत भूमि पारिस्थितिक सुरक्षा लाल रेखा में शामिल

वर्तमान में, चीन के तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र में पारिस्थितिक सुरक्षा लाल रेखा का कुल क्षेत्रफल 5.39 लाख वर्ग किलोमीटर तक जा पहुंचा, जिसका आपात राष्ट्रीय भूमि क्षेत्र में 45 प्रतिशत है। साथ ही, तिब्बत में विभिन्न पारिस्थितिक संरक्षण कार्यात्मक क्षेत्रों की कुल संख्या 22 हो गई। 56 प्रमुख नदी खंडों में रेत खनन कार्यों को सख्ती से नियंत्रण किया जाता है। जिला स्तर और ऊपर के शहरों में हवा की उच्च गुणवत्ता होने वाले दिनों की दर 99.4 प्रतिशत तक जा पहुंची, जबकि पेय जल स्रोतों में पानी की गुणवत्ता की अनुपालन दर 100 प्रतिशत है।

चीन के छिंगहाई-तिब्बत पठार का मुख्य भाग के रूप में तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र में ज्यादा नदियां और झीलें हैं। तिब्बत एशियाई जल मीनार और पृथ्वी का तीसरा ध्रुव के नाम पर प्रसिद्ध है। यहां चीन, दक्षिण एशिया और दक्षिण-पूर्व एशिया के नदियों का स्रोत है।

अभी पारिस्थितिक सुरक्षा बाधाओं की सुरक्षा और निर्माण को बढ़ाने के लिये तिब्बत में 12.2 अरख से अधिक चीनी युआन को मिलाकर निवेश किया गया है। तिब्बत में 1079 “पेड़ के विहीन गांवों” और 1.05 लाख “पेड़ विहीन परिवारों” को उन्मूलन किया गया। तिब्बत में घास के मैदान की व्यापक वनस्पति कवरेज (सीवीसीजी) 47 प्रतिशत पहुंच गई। स्थलीय वन्यजीव की प्रजातियों की कुल संख्या 1072 हो गई। तिब्बत में काली गर्दन सारस की कुल संख्या 8000 से अधिक तक जा पहुंची, जबकि तिब्बती मृग की कुल संख्या 2 लाख से अधिक हो गई। अनेक पारिस्थितिक क्षतिपूर्ति निधि की कुल मात्रा 29.63 अरब चीनी युआन हो गई। स्थानीय लोग पर्यावरण संरक्षण के कारण गरीब के बजाय अमीर बन गये हैं।
(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)




Live TV

-->
Loading ...