punjab news online, latest news punjab, chandigarh news,

जुनूनः साइकल पर सवार 23 साल का नौजवान घूम रहा देश, रास्ते में चाय बेचकर चला रहा खर्च

चंडीगढ़ः कुछ नया और दुनिया से अलग करने वालों के लिये उनकी उम्र आढे नहीं आती । इसके लिए चाहिये होता तो सिर्फ हौंसला और जुनून। इसी जोश की मिसाल कायम की है 23 साल के निथिन ने जो कि देश की खूबसूरती को निहारने के लिये बिना गियर की साईकल के द्वारा लगभग 4000 किलोमीटर का सफर तय कर सेक्टर 7 स्थित साइकल वर्क्स कैफे पहुंचे जहां स्थानीय साईकलिस्टों ने उसका स्वागत किया। सौ दिनों के मिशन पर वह अपना सफर श्रीनगर में खत्म करेगा। 

केरल के त्रिशूर में रहने वाला निथिन एक रेस्टोरेंट में टी व जूस मेकर का काम करता था परन्तु कोविड 19 के प्रकोप ने उसका नौकरी छीन ली। दस महिने तक घर में बैठे रहने के बाद निथिन ने ठान लिया कि अपनी साईकल पर चाय बेच कर देश की यात्रा करेगा और फिर शुरु हुआ उसका 'केरल टू कश्मीर का मिशन । इस यात्रा से पहले निथिन ने अपनी कमाई से लिया सोनी कैमरा को लगभग दस हजार रुपये में बेचा और अपने भाई की आउटडेटिड साईकल को संवार कर उसमें पोर्टेबल स्टोव फिट किया। कुछ आवश्यक चीजों के साथ जेब में मात्र 170 रुपये के साथ निथिन ने इसी साल एक जनवरी को कश्मीर के लिये अपनी यात्रा शुरु की। 

निथिन ने बताया कि वह अपने दिन की शुरुआत सुबह लगभग छह बजे से शुरु करता है और शाम करीब चार बजे तक अपनी दिन की यात्रा सम्पन्न करता है। दिन में वह लगभग दस रुपये प्रति कप की दर से लगभग पचास कप बेच कर अपना खर्चा पूरा करता है। यात्रा के दौरान वह किसी पेट्रोल पम्प, मंदिर या स्कूल में अपना ही टैंट लगाकर रात काटता है और अगले दिन अपने सफर के लिये निकल पड़ता है। 

निथिन ने बताया कि उसकी यात्रा किसी पर आश्रित नहीं है परन्तु राह में उसकी मदद के लिये कई लोग हाथ बढ़ाते हैं। जिसमें उसे होस्टिंग के साथ साथ कपड़े व आवश्यक चीजें उसके जज्वे को सलाम करती सौहार्द स्वरुप मिल जाती हैं। यात्रा के दौरान उसे दस्ताने, हैलमेट, जूते तक लोगों से सप्रेम सहित भेंट प्राप्त हुई।


निथिन ने बताया कि वह अपने जीवन में अनुभव जोड़ने के लिये यात्रा करने चाहता था जिससे की अब उनका सपना पूरा हो रहा है। उसने बताया कि यात्रा उसे विभिन्न राज्यों के समाजिक ताने बाने में तौर तरीकों और संस्कृति से अवगत करवाती है जिससे सीखने को बहुत कुछ मिल रहा है। बचपन में ही बिताये जा रहे उनके संघर्ष के दिन उनको मजबूती प्रदान कर रहे है। निथिन ने इस बात पर बल दिया कि लोग संघर्षरत हो जीवन का डट का मुकाबला करे और जीवन के हर पलों को खुशी-खुशी व्यतीत करें।



Live TV

-->
Loading ...