Covid 19

अमेरिकी राजनीतिज्ञों को कोविड-19 महामारी के मुकाबले में मिली करारी हार पर आत्म-निरीक्षण करना चाहिए

अब अमेरिका में कोविड-19 से संक्रमितों की संख्या 88 लाख के पार हो गयी है और मृतकों की संख्या 2 लाख 20 हजार से अधिक है। कोविड-19 के मुकाबले में करारी हार पाकर अमेरिका के विभिन्न जगत आत्म-निरीक्षण कर रहे हैं। अमेरिकी राजनीतिज्ञों को भी इसमें भाग लेना चाहिए, न कि दूसरों पर जिम्मेदारी थोपे।

मशहूर अमेरिकी डायरेक्टर एलेक्स गिबने समेत कुछ कलाकारों द्वारा कोविड-19 महामारी के बारे में बनायी गयी एक डॉक्यूमेंटरी में अमेरिकी सरकार की गड़बड़ी और निरंतर गलतियों को प्रतिबिंबित किया गया। इस डॉक्यूमेंटरी में कहा गया कि महामारी के मुकाबले में अमेरिकी प्रशासन की विफल कार्रवाइयां ही महामारी का अनियंत्रित होने का मूल कारण है।

उधर, न्यूयॉर्क राज्य के गर्वनर एंड्रू कुओमो ने हाल ही में “अमेरिका का संकट” नामक पुस्तक रिलीज की। उन्होंने स्थानीय प्रशासक की दृष्टि से न्यूयॉर्क राज्य में महामारी के फैलाव का रिकार्ड किया। उन्होंने इस पुस्तक में साफ कहा कि न्यूयार्क की मौजूदा कठिन स्थिति के प्रति अमेरिकी संघीय सरकार अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकती है।

उन्होंने अमेरिकी सरकार द्वारा चीन और विश्व स्वासथ्य संगठन को बलि का बकरा बनाने की आलोचना की। उन्होंने चीन में महामारी के मुकाबले में प्राप्त सफलता की प्रशंसा की और चीन द्वारा अमेरिका को दान में दी गयी बड़ी मात्रा में सामग्रियों के प्रति आभार व्यक्त किया।

मशहूर डायरेटक्टरों के डॉक्यूमेंटरी से न्यूयार्क राज्य के गर्वनर की पुस्तक तक उन्होंने एक कठोर तथ्य का पर्दाफाश किया है यानी अमेरिका में राजनीतिक ख्याल सर्वोपरी है, जो महामारी के मुकाबले में अमेरिकी सरकार का सिद्धांत है। विभिन्न जगतों की पूछताछ और अपील के सामने क्या स्वार्थी अमेरिकी राजनीतिज्ञों को आत्म-निरीक्षण नहीं करना चाहिए। (साभार---चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)