Ban on entry of common people in all Durga Puja

पश्चिम बंगाल के सभी दुर्गा पूजा पंडालों में आम लोगों के प्रवेश पर रोक, HC ने आयोजक को ही दी अनुमति

कोरोना वायरस का कहर अभी भारत में थोड़ा कम होता दिखाई दे रहा है। लेकिन कोरोना वायरस महामारी के दौरान त्यौहारों का सीजन भी शुरु हो गया है। कोरोना का ग्रहण त्यौहारों पर न पड़े इसलिए पूरी एहतियात के साथ ही सभी त्यौहारों के समाने पर जोर दिया जा रहा है। पश्चिम बंगाल के सभी दुर्गा पूजा पंडालों में आम लोगों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। वहीं कलकत्ता हाई कोर्ट ने कुछ आयोजकों के नाम तय किए हैं केवल उन्हीं को पंडाल में जाने की अनुमति होगी। इन आयोजकों के नाम पंडाल के बाहर सूचनापट्ट पर लिखे जाएंगे।

 पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा था कि बंगाल में इस बार भी दुर्गा पूजा धूम धाम से मनाया जाएगा। ममता ने कहा था कि देश कुछ राज्य जैसे दिल्ली और यूपी ने इस बार दुर्गा पूजा मनाने की इजाजत नहीं दी है लेकिन हम कुछ शर्तों के साथ लोगों को मां दुर्गा का दर्शन करने की इजाजत दे रहे हैं। इन शर्तों के तहत मास्क पहनने के साथ-साथ सोशल डिस्टेंसिंग अनिवार्य होगा। वहीं मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं दुर्गा पूजा समितियों से अनुरोध करती हूं कि वे पंडालों में बिना मास्क के लोगों को आने की अनुमति न दें। उन्हें एक अलग क्षेत्र में रखा जाना चाहिए। यदि पूजा समितियां मास्क दे सकती हैं तो यह और अच्छा है।