CPC

सीपीसी पार्टी का सम्मेलन ने भेजा है नवाचार विकास का संकेत

29 अक्तूबर को पेइचिंग में संपन्न चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीसी) की 19वीं केंद्रीय कमेटी के 5वें पूर्णाधिवेशन में नवाचार विकास का मजबूत संकेत भेजा है। चीन के भविष्य के विकास से घनिष्ठ संबंध होने वाले इस सम्मेलन में 2035 में बुनियादी तौर पर समाजवादी आधुनिकीकरण के दीर्घकालीन लक्ष्य प्रस्तुत किया गया और नवाचार को अभूतपूर्ण ऊँचाई पर भी रखा गया।

सम्मेलन में जारी विज्ञप्ति में 15 बार नवाचार का उल्लेख किया गया। यह सीपीसी पार्टी के इतिहास में पहली बार है कि नवाचार कार्य को प्राथमिकता दी गई है। निःसंदेह नवाचार भविष्य में चीन के आर्थिक और सामाजिक विकास की प्रमुख प्रेरणा शक्ति बनेगा।

कुछ विदेशी लोगों का मानना है कि अमेरिका द्वारा चीन के उच्च वैज्ञानिक व तकनीकी उद्यमों पर पाबंदी लगाने और चीनी अनुसंधानकर्ताओं पर दबाव डालने से चीन ने यह कार्यवाई की है। वास्तव में यह सही नहीं है।

नवाचार चीनी आर्थिक विकास की चिरस्थायी प्रेरणा शक्ति है, साथ ही इधर के वर्षों में चीन की समग्र नीति की प्रमुख दिशा भी है। चीन इसलिए नवाचार को इतना बड़ा महत्व देता है, कारण यह है कि चीन का विकास नये चरण में प्रवेश कर चुका है, इसलिए चीन को नये विकास विचारधारा और नया विकास ढांचा चाहिए। उदाहरण के लिए चीन विश्व का बड़ा विनिर्माण देश है और चीन के पास विनिर्माण की विविधतापूर्ण किस्में हैं। लेकिन वैश्विक मूल्य श्रृंखला में चीन अहम स्थान पर नहीं रहा है। विश्व में अमेरिका जैसे अन्य देशों की तुलना में कच्चे माल, प्रमुख तकनीक और केंद्रीय उपकरणों पर चीन की निर्भरता बहुत बड़ी है।

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने अनेक बार जोर दिया कि दबाव के सामने चीन खुद को बंद नहीं करेगा, जबकि चीन विदेशों के लिए और खुलेगा। चीन खुलेपन और समावेश, आपसी उदार व साझी जीत वाली अंतर्राष्ट्रीय तकनीक सहयोग रणनीति लागू करेगा।

भविष्य में मानव जाति के हितों से संबंधित मौसम परिवर्तन, सार्वजनिक स्वास्थ्य और ऊर्जा क्रांति आदि सवालों पर चीनी वैज्ञानिक और ज्यादा अंतर्राष्ट्रीय अनुसंधानकर्ताओं के साथ मिलकर काम करेंगे। साथ ही चीन आंतरिक सुधार करने से विश्व के सुयोग्य व्यक्तियों को बराबर मौके और सुविधा भी देगा।
(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)