Vijay Mallya

केंद्र ने SC को बताया- माल्या को लाने के लिए चल रही है ‘गोपनीय’ प्रत्यर्पण कार्यवाही, भारत सरकार को नहीं है कोई जानकारी

नई दिल्लीः केंद्र ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया कि भगौड़े कारोबारी विजय माल्या को भारत लाने के लिए ‘गोपनीय’ प्रत्यर्पण की प्रक्रिया चल रही है लेकिन उसे इसकी स्थिति की जानकारी नहीं है। केंद्र ने कोर्ट को जानकारी दी कि वह इस कार्यवाही में पक्षकार नहीं है।

जस्टिस उदय यू ललित और जस्टिस अशोक भूषण की पीठ ने माल्या के वकील माल्या को लाने के लिए चल रही है, ‘गोपनीय’ प्रत्यर्पण कार्यवाही से पूछा कि उसके प्रत्यर्पण के लिए यह किस तरह की गोपनीय कार्यवाही चल रही है। इस पर माल्या के वकील अंकुर सैगल ने कोर्ट से कहा कि उन्हें यह जानकारी नहीं है कि किस तरह की कार्यवाही चल रही है। उन्होंने कहा, मुझे इतनी ही जानकारी है कि प्रत्यर्पण कार्यवाही के खिलाफ मेरा अनुरोध अस्वीकार कर दिया गया है।

पीठ ने माल्या के वकील को 2 नवंबर तक यह जानकारी देने का निर्देश दिया कि यह भगौड़ा कारोबारी कोर्ट में कब पेश हो सकेगा और यह गोपनीय कार्यवाही कब खत्म होने वाली है। केंद्र की ओर से वकील रजत नायर ने पीठ से कहा कि कोर्ट के निर्देशानुसार ही प्रत्यर्पण का अनुरोध किया गया है। उन्होंने कहा कि कोई गोपनीय प्रत्यर्पण कार्यवाही चल रही है जिसके बारे में उन्हें जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा, ब्रिटेन की सर्वोच्च कोर्ट ने माल्या के प्रत्यर्पण की कार्यवाही को बरकरार रखा है लेकिन अभी ऐसा नहीं हो रहा है। शीर्ष कोर्ट ने इससे पहले माल्या की 2017 की पुर्निवचार याचिका खारजि करते हुए उसे 5 अक्तूबर को कोर्ट में पेश होने का निर्देश दिया था।