Chanakya Niti

Chanakya Niti: चाणक्य नीति के अनुसार ऐसे व्यक्ति के लिए कुछ भी करना नहीं होता असंभव

इंसान अपने जीवन में हर कार्य को करना चाहता है। और अपने जीवन में बहुत अधिक सफल होना चाहता है। लेकिन बहुत बार कठिन मेहनत करते है लेकिन सफल नहीं  हो पाते। चाणक्य नीति को बहुत से मानते है और उस पर अमल भी करते है। इसको लेकर चाणक्य ने कुछ बातें बताई हैं, इन बातों को हर व्यक्ति को जानना चाहिए। तो आइए जानते है :

इन 4 गुणों को विकसित करें
चाणक्य के अनुसार व्यक्ति को शक्तिशाली, व्यापारी की तरह साहसी, विद्वान और मधुर वाणी बोलने वाला होना चाहिए. ये चार गुणों से पूर्ण व्यक्ति के लिए कुछ भी असंभव नहीं होता है. जिने लोगों में ये चारों गुण पाए जाते हैं वे जीवन में बहुत सफलता प्राप्त करते हैं.

को हि भार: समर्थनां कि दूरं व्यवसायिनाम्
को विदेश: सविद्यानां क: पर: प्रियवादिनाम्.

चाणक्य नीति के इस श्लोक का भाव ये है कि शक्तिशाली व्यक्ति के लिए कोई कार्य कठिन नहीं होता है. व्यापारी के लिए कोई भी स्थान दूर नहीं होता है. इसी प्रकार से विद्वान के लिए कोई भी स्थान दूर नहीं होता है. विद्वान के लिए विदेश भी नजदीक होता है. क्योंकि ऐसे लोगों को हर देश सम्मान देना चाहता है. चौथा गुण है, मधुर वाणी बोलने वालों के लिए कोई भी पराया नहीं है, वह सभी को अपना बना लेता है.

चाणक्य के इस श्लोक में सफलता का मंत्र छिपा है. जो व्यक्ति इन गुणों को अपने भीतर विकसित कर लेता है उसके लिए सफलता आसान हो जाती है. इन गुणों से युक्त व्यक्ति हर कार्य को कर सकता है. बड़े लक्ष्यों को भी आसानी से भेद सकता है. इसलिए जीवन में यदि सफलता प्राप्त करनी है तो इन गुणों को विकसित करो.




Live TV

Breaking News

Loading ...