China

चीन अपने मूल हितों को लेकर कोई रियायत नहीं देता – अमेरिका में चीनी राजदूत

चीन को आशा है कि जल्द ही आयोजित चीन-अमेरिका उच्च स्तरीय रणनीतिक वार्ता दोनों देशों के बीच तर्कसंगत संवाद और संचार की प्रक्रिया को शुरु करेगा, लेकिन अपने मूल हितों को लेकर चीन कोई रियायत कतई नहीं देता है। अमेरिका में चीनी राजदूत थ्स्वी थ्येनखाई ने 17 मार्च को यह बात कही। 

राजदूत थ्स्वी ने उस दिन सुबह अमेरिका के अलास्का स्टेट के एंकोरेज शहर में शिनहुआ समाचार एजेंसी समेत चीनी मीडिया को दिए एक संयुक्त इन्टरव्यू में कहा कि किसी भी देश के बीच संवाद और संचार के लिए सबसे बुनियादी शर्त यह है कि दोनों पक्षों में समानता और आपसी सम्मान की भावना होनी चाहिए। उन्होंने बल देते हुए कहा कि चीन अपनी संप्रभुता, प्रादेशिक अखंडता और राष्ट्रीय एकीकरण जैसे अपने मूल हितों से संबंधित मुद्दों पर कोई रियायत नहीं देता। यह मौजूदा वार्ता में चीन का स्पष्ट रवैया ही होगा।

थ्स्वी थ्येनखाई ने कहा कि चीन और अमेरिका के बीच सभी समस्याओं को हल करने के लिए चीन एक ही संवाद की उम्मीद नहीं करता है। इसलिए चीन को मौजूदा वार्ता के बारे में कोई उच्च उम्मीद या भ्रम नहीं है। उन्होंने उम्मीद जताई कि इस वार्ता के माध्यम से दोनों पक्ष सदिच्छापूर्ण, रचनात्मक और तर्कसंगत संवाद और संचार की प्रक्रिया शुरू करेंगे। यदि इसे प्राप्त किया जा सकता है, तो यह संवाद सफल होगा। "मुझे उम्मीद है कि दोनों पक्ष ईमानदारी के साथ आएंगे और बेहतर आपसी समझ के साथ कोई हल निकालेंगे।" चीनी राजदूत ने यह बात कही।

गौरतलब है कि अमेरिका के निमंत्रण पर चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय समिति के पोलित ब्यूरो के सदस्य, केंद्रीय विदेशी मामला कार्य समिति कार्यालय के प्रधान यांग च्येछी, चीनी विदेश मंत्री वांग यी 18 से 19 मार्च तक अमेरिका के अलास्का स्टेट के एंकोरेज शहर में अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन और राष्ट्रपति के राष्ट्रीय सुरक्षा मामला सहायक जेक सुलिवन के साथ चीन-अमेरिका उच्च स्तरीय रणनीतिक वार्ता करेंगे।
( साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग )




Live TV

-->
Loading ...