China economic

चीन की आर्थिक प्रगति उल्लेखनीय है

वर्ष 2020 एक असाधारण साल रहा। कोविड-19 महामारी पूरी दुनिया में फैल रही है और विश्व आर्थिक मंदी छाई हुई है। वहीं, इस असाधारण साल में चीनी अर्थव्यवस्था ने उल्लेखनीय प्रगति हासिल की, जिस पर जनता संतुष्ट है, दुनिया का ध्यान केंद्रित है और इतिहास में दर्ज हो सकती है।

वर्ष 2020 में चीन की आर्थिक वृद्धि दर विश्व आर्थिक मंदी की स्थिति में भी 2.3 प्रतिशत बनी रही, जीडीपी 10 लाख युआन से अधिक रही, शहरों और कस्बों में रोजगार के 1 करोड़ 18 लाख 60 हजार नये अवसर पैदा हुए, कुल अनाज उत्पादन 66 करोड़ 94 लाख 90 हजार टन रहा। वर्ष 2020 में चीन के आर्थिक आंकड़ें जारी होने के चलते एक असाधारण रिपोर्ट कार्ड लोगों के सामने आयी।

वर्ष 2000 से 2020 तक 20 सालों में चीन का आर्थिक पैमाना 10 गुणा बढ़ा, जिस पर विश्व का ध्यान आकर्षित हुआ। वर्तमान वार्षिक औसत विनिमय दर के अनुसार पिछले साल चीन की जीडीपी 147 खरब अमेरिकी डॉलर रही, जो दुनिया के दूसरे स्थान पर है। अनुमान है कि विश्व अर्थव्यवस्था में चीनी अर्थव्यवस्था का अनुपात करीब 17 प्रतिशत बना रहा।

वहीं, साल 2020 में चीन का अनाज उत्पादन फिर एक नया रिकॉर्ड बना, 220 से अधिक औद्योगिक उत्पादों का उत्पादन दुनिया के पहले स्थान पर रहा, निर्माण उद्योग के मूल्य में हुई वृद्धि लगातार 11 सालों से दुनिया के पहले स्थान पर रही। चीन में बुनियादी संस्थापनों में सुधार हुआ है, हाई-स्पीड रेलवे की कुल लंबाई 38 हजार किलोमीटर तक जा पहुंची, हाइवे की कुल लंबाई 1 लाख 55 हजार किलोमीटर से अधिक रही, 5जी टर्मिनल कनेक्शन की संख्या 20 करोड़ से अधिक रही, जो सब दुनिया के पहले स्थान पर रहे। इससे जाहिर है कि चीन की सामाजिक उत्पादक शक्ति एक नए स्तर तक पहुंच चुकी है।

जीडीपी के 10 लाख युआन से अधिक होने के चलते चीन की आर्थिक शक्ति, तकनीकी शक्ति और राष्ट्रीय शक्ति फिर एक नए स्तर तक जा पहुंची। ओईसीडी ने दिसंबर 2020 में अनुमान लगाया कि साल 2021 में विश्व आर्थिक वृद्धि में चीन का योगदान एक तिहाई से अधिक होगा।

दुनिया के लिए चीन की आर्थिक प्रगति के पीछे उच्च गुणवत्ता वाले विकास से पैदा व्यापक अवसर मौजूद हैं। चीन की जनसंख्या 1 अरब 40 करोड़ है, जिसमें 40 करोड़ से अधिक मध्य आय वर्ग समूह शामिल है। चीन के बाजार की निहित शक्ति दुनिया में सबसे बड़ी है। प्रति व्यक्ति आय की बढ़ोतरी और प्रति इकाई जीडीपी में ऊर्जा की खपत की कमी के चलते चीन में उपभोग की संरचना में समायोजन से विश्व आर्थिक पुनरुत्थान में नई उम्मीद जगेगी।

अब चीन विकास के नए ढांचे के निर्माण को तेज कर रहा है, जिससे बाजार की निहित शक्ति बढ़ायी जाएगी। चीन का द्वार और खुलेगा और विदेशों के साथ सहयोग लगातार बढ़ेगा। विश्वास है कि चीन की आर्थिक वृद्धि अवश्य ही दुनिया को और ज्यादा अवसर देगी। चीन और अच्छे से दुनिया के साथ आपसी लाभ वाला विकास करेगा।
(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)


Live TV

-->
Loading ...