China

चीन की अंतिम आदिम जनजाति विलुप्त हो गयी

14 फरवरी को चीन के युनान प्रांत के लिनछांग शहर में पुराने वंगतिंग गांव के लाउच्येई में आग लग गयी। हालांकि, आग बुझा दी गई है और किसी के भी हताहत होने की सूचना नहीं है, लेकिन खेद की बात है कि लाउच्येई के 105 मकानों में अब केवल 4 ही शेष रह गये हैं। आग लगने की वजह की जांच जारी है।

गौरतलब है कि वंगतिंग गांव का लाउच्येई लानछांग नदी के किनारे पर स्थित है, जो बादलों, पर्वतों और अनेक झीलों से घिरा हुआ है। इस गांव का 4000 से ज्यादा लम्बा इतिहास है, जो चीन में सबसे अच्छी तरह से संरक्षित वा जाति का गांव समूह है। इसलिए इसे चीन की अंतिम आदिम जनजाति मानी जाती है।

2019 के जनवरी में वंगतिंग गांव को चीन का मशहूर ऐतिहासिक सांस्कृतिक गांव चुना गया। 2020 के मार्च में वंगतिंग गांव चीन के 4ए राष्ट्रीय पर्यटन स्थलों की नामसूची में शामिल हुआ। यहां बहुत से पर्यटक इधर आने के लिए आकर्षित होते हैं। 
(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)




Live TV

-->
Loading ...