China, Poverty, Transferring

स्थानांतरण कर गरीबी उन्मूलन के लक्ष्य को चीन ने किया साकार

चीन के गरीबी उन्मूलन की प्रक्रिया में स्थानांतरण कर गरीबी उन्मूलन के लक्ष्य को साकार करना एक अहम तरीका है। चीनी पंचांग के अनुसार वृषभवर्ष के वसंत त्योहार के आगमन पर चीनी राष्ट्रपति शीचिनफिंग ने दक्षिण पश्चिम चीन के क्वेइचो प्रांत का दौरा किया। क्वेइचो का बीच शहर पश्चिम चीन के गरीब क्षेत्रों की एक मिसाल है। पहले यहां पेय जल उपलब्ध नहीं था, बिजली नहीं थी और सड़क भी नहीं थी। लोग बहुत मुश्किल स्थिति में रहते थे। 

इधर के वर्षों में स्थानीय लोगों को स्थानांतरितकर गरीबी से छुटकारा दिलाया गया और विशेष रोपण व प्रजनन कार्य के पर्यटन उद्योग का विकास किया। अब स्थानीय लोग सुखमय जीवन बिता रहे हैं। चीन के निंगश्या प्रांत की मिननिंग कस्बा एक सूखा स्थल है। 1997 में शीचिनफिंग ने यहां का दौरा किया था। 20 साल के बाद वे फिर एक बार यहां आए और उन्होंने बड़े परिवर्तन देखे हैं। 

अब मिननिंग कस्बा पहले के 8000 आबादी वाले गरीब गांव से 60 हजार आबादी वाला कस्बा बन चुका है। स्थानीय लोगों की आमदनी में भी बढ़ोतरी आई है। औसत वार्षिक आमदनी पहले के 500 युआन से बढ़कर अब के 10 हजार युआन तक पहुंच गई है। आंकड़े बताते हैं कि चीन की 13वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान चीन में 96 लाख लोगों को खराब पर्यावरण वाले क्षेत्रों से बाहर स्थानांतरित किया गया। इससे उनकी जीवन स्थिति में भारी परिवर्तन आ गया है। 

2016 से 2019 के बीच उनकी औसत आमदनी में 30 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। भविष्य में चीन आगे कदम उठाकर उनकी सहायता में जोर देगा, ताकि वे लोग समृद्ध बन सकें।

(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)     



Live TV

-->
Loading ...