DLF

डीएलएफ की बुकिंग बिक्री में मामूली बढ़ोतरी, कंपनी को अप्रैल-जून से ज्यादा उम्मीद नहीं

नई दिल्ली:  रियल्टी क्षेत्र की प्रमुख कंपनी डीएलएफ की बुकिंग से होने वाली शुद्ध बिक्री बीते वित्त वर्ष में दो प्रतिशत बढक़र 2,485 करोड़ रुपये रही, हालांकि कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन और गुरुग्राम में उसके कुछ प्रोजेक्ट की इकाइयों के रद्द होने के चलते कंपनी अपने बिक्री लक्ष्य से पीछे रह गई। इसके साथ ही डीएलएफ ने कहा है कि चालू वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही के दौरान कारोबार बुरी तरह प्रभावित होने की आशंका है। 

कंपनी ने बताया कि उसकी कुल बिक्री 3,450 करोड़ रुपये और शुद्ध बिक्री 2,485 करोड़ रुपये रही। कंपनी ने 2,700 करोड़ रुपये की बिक्री का लक्ष्य तय किया था। डीएलएफ ने एक निवेशक प्रस्तुतिकरण में बताया कि हरियाणा के गुरुग्राम में डीएलएफ फेज-5 में विभिन्न परियोजनाओं के लिए लगभग 800 करोड़ रुपये की बुंिकग को रद्द कर दिया गया। लक्जरी प्रोजेक्ट कैमेलियास के लिए ज्यादातर बुकिंग रद्द की गईं। 

डीएलएफ ने भविष्य की संभावनाओं के बारे में कहा कि वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही के अत्यधिक खराब रहने की आशंका है। कंपनी ने लॉकडाउन के विस्तार और बाजार में खरीदारों की कमी को इसकी वजह बताया। कंपनी ने उम्मीद जताई कि चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही से हालात में कुछ सुधार होगा।