barnala

पोस्टमार्टम के लिए रखे शव को अस्पताल से ले भागा परिवार, कुछ दिन पहले की थी खुदुकशी

बरनालाः कर्ज से परेशान 5 बहनों के एक भाई ने कुछ दिन पहले खुदकुशी कर ली और अब इस मामले ने एक नया मोड़ ले लिया है। इस मामले में युवक के परिजनों ने बरनाला के अस्पताल में एसएमओ के दफ्तर के बाहर धरना दे दिया। परिवार वालों ने आरोप लगाया कि उनके बेटे के शव का पोस्टमार्टम नहीं किया जा रहा है और भारी पुलिस बल तैनात होने के बावजूद परिवार वाले अपने बेटे के शव को वहां से लेकर भाग निकले। बताया जा रहा है कि कुछ दिन पहले एक युवक ने कर्ज से परेशान होकर खुदकुशी कर ली थी और अब ये परिवार इंसाफ के लिए दर-दर भटक रहा है। 

इस मामले में अधिक जानकारी देते हुए मृतक किसान की बहन बलजीत कौर और रिश्तेदार मोहिंदर कौर ने बताया कि उनके भाई ने घर में ही आत्महत्या कर ली थी जिसके बाद उसका पोस्टमार्टम करवाने के लिए बरनाला के सरकारी अस्पताल में लाश को लाया गया लेकिन अस्पताल में तैनात डॉक्टरों ने जानबूझकर कर उनके भाई की लाश का पोस्टमार्टम करने में देरी की जिसका उन्होंने विरोध किया उसके बाद डॉक्टरों ने लाश का पोस्टमार्टम पटियाला से करवाने के लिए कह दिया।उन्होंने कहा कि उनके भाई की किसी बीमारी से मृत्यु नहीं हुई है बल्कि उसने आत्महत्या की है इसलिए वह उसका पोस्टमार्टम बरनाला में ही करवायंगे। 

वहीं इस मामले पर सरकारी अस्पताल बरनाला के एसएमओ डॉ तपिन्दरजोत ने बताया कि कल 3 बजे के करीब एक व्यक्ति की लाश पोस्टमार्टम के लिए आई जिसके बाद उन्होंने एक डॉक्टर की डयूटी पोस्टमार्टम के लगा दी और डॉक्टर ने लाश को देखने के बाद डॉक्टरों के एक बोर्ड के गठन की मांग की जिसके बाद उन्होंने डॉक्टरों का बोर्ड बना कर लाश का पोस्टमार्टम करने के लिए कहा लेकिन डॉक्टरों के बोर्ड ने उन्हें बताया कि लाश को देख कर लग रहा है कि मृतक ने आत्महत्या नहीं की इसलिए किसी फोरेंसिक एक्सपर्ट से पोस्टमार्टम करवाया जाए और बरनाला में फोरेंसिक एक्सपर्ट न होने के कारण उन्होंने लाश का पोस्टमार्टम पटियाला से करवाने के लिए अपने उच्चाधिकारियों को लिख दिया लेकिन बरनाला के सिविल सर्जन ने फोरेंसिक एक्सपर्ट को बरनाला में ही बुलाने के लिए कहा जिसके बाद उन्होंने मृतक के परिजनों को अगली सुबह 9 बजे आने के लिए कहा। उन्होंने बताया कि उसके बाद मृतक के परिजनों ने अस्पताल में खूब हंगामा किया और उन्हें और बोर्ड में शामिल डॉक्टरों को उनके कमरे में बंदी बना दिया जिसके बाद उन्होंने कमरे को अंदर से बंद कर लिया क्योंकि उन्हें डर था कि कहीं मृतक के परिजन उन्हें नुकसान पहुंचा सकते हैं और कुछ समय बाद मृतक के परिजन अस्पताल के पोस्टमार्टम रूम का ताला तोड़कर मृतक की लाश को लेकर फरार हो गए जिसकी सूचना उन्होंने तुरंत पुलिस को दी लेकिन पुलिस ने अभी तक आरोपियों के खिलाफ कोई भी कानूनी कार्यवाही नहीं की जिस कारण आज बरनाला के सरकारी अस्पताल के सभी डॉक्टर और अन्य स्टाफ हड़ताल पर चले गए हैं।उन्होंने बताया कि जब तक आरोपियों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही नहीं की जाएगी तब तक बरनाला के सरकारी अस्पताल के डॉक्टर और अन्य स्टाफ हड़ताल पर ही रहेंगे।

 वहीं इस पूरे मामले पर बरनाला पुलिस के डीएसपी रछपाल सिंह ने कहा कि कल एक किसान ने अपने घर में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली थी जिसके बाद मृतक की लाश को पोस्टमार्टम के लिए सरकारी अस्पताल लाया गया था लेकिन डॉक्टर मृतक की लाश का पोस्टमार्टम पटियाला में करवाने के लिए रैफर कर रहे थे जिस कारण मृतक के परिजनों की डॉक्टरों से तकरार हुई थी और आज डॉक्टरों और मृतक के परिजनों के बीच बात हो रही है और सारा मामला जल्द ही सुलझा लिया जाएगा। वहीं बीती रात मृतक के परिजन जोकि पोस्टमार्टम रूम का ताला तोड़कर लाश अपने साथ ले गए थे उस बात से साफ मुकरते हुए डीएसपी ने कहा कि लाश पोस्टमार्टम रूम में ही है। उन्होंने कहा कि कानून के अनुसार आरोपियों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी।