Delhi , own education board, CM Kejriwal announced

दिल्ली का होगा अपना शिक्षा बोर्ड, CM केजरीवाल ने किया ऐलान

 सीएम केजरीवाल ने कहा कि 'दिल्‍ली बोर्ड ऑफ स्‍कूल एजुकेशन' से केवल दिल्‍ली ही नहीं, भविष्‍य में पूरे देश की शिक्षा व्‍यवस्‍था पर असर पड़ेगा। सीएम ने कहा कि राजधानी में करीब 1000 सरकारी स्‍कूल और 1700 प्राइवेट स्‍कूल हैं। सभी सरकारी और अधिकतर प्राइवेट स्‍कूल सीबीएसई (सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन) से मान्‍यता प्राप्‍त हैं। सीएम ने कहा कि अगले सत्र (2021-22) से इस बोर्ड में हम 20-25 स्‍कूलों को शामिल करेंगे।

जिसमें जो भी स्‍कूल चुने जाएंगे, उनकी CBSE की मान्‍यता खत्‍म कर दी जाएगी और उन्‍हें दिल्‍ली बोर्ड ऑफ स्‍कूल एजुकेशन से मान्‍यता दी जाएगी। कौन-कौन से स्‍कूल नए बोर्ड में शामिल होंगे? इसे लेकर सीएम ने कहा कि उनका चयन प्रिंसिपल्‍स, टीचर्स और पैरंट्स से चर्चा के बाद होगा। केजरीवाल ने उम्‍मीद जताई कि चार-पांच साल के भीतर सारे स्‍कूल इस बोर्ड में शामिल हो जाएंगे। सीएम ने कहा कि दिल्‍ली बोर्ड ऑफ स्‍कूल एजुकेशन में एक गवर्निंग बॉडी होगी जिनके चेयरमैन शिक्षा मंत्री होंगे। डे-टू-डे फंक्‍शन के लिए इसमें एक एक्‍जीक्‍यूटिव बॉडी भी रहेगी, जिसकी अध्‍यक्षता मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी (CEO) करेंगे। दोनों बॉडीज में इंडस्‍ट्री, एजुकेशन सेक्‍टर के एक्‍सपर्ट्स के अलावा, सरकारी और निजी स्‍कूलों के प्रिंसिपल्‍स, ब्‍यूरोक्रेट्स शामिल होंगे।




Live TV

-->
Loading ...