ड्राइविंग लाइसैंस

विदेश में रहते हुए भी ड्राइविंग लाइसैंस करा सकेंगे रिन्यू, मोटर एक्ट में होगा संशोधन

अब विदेश में रहने के दौरान भी आप अपने ड्राइविंग लाइसैंस का आसानी से रिन्युवल करा सकेंगे। इतना ही नहीं इंटरनैशनल ड्राइविंग परमिट (आई.डी.पी.) के लिए वीजा और मैडिकल सर्टिफिकेट की शर्तों को भी हटाने की तैयारी है। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने विदेश में रहने के दौरान ऐसे नागरिकों के अंतर्राष्ट्रीय ड्राइविंग परमिट की अवधि समाप्त होने पर रिन्युवल (नवीनीकरण) की प्रक्रिया को और सरल बनाने की तैयारी की है। इसके लिए केंद्रीय मोटर वाहन अधिनियम, 1989 में संशोधन का प्रस्ताव है। संशोधन के लिए मंत्रालय ने लोगों से सुझाव भी मांगे हैं।  सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने कहा है कि संज्ञान में आया है कि विदेश में रहने के दौरान अंतर्राष्ट्री ड्राइविंग परमिट की अवधि समाप्त हो जाने पर उसके नवीकरण (रिन्युवल) के लिए कोई तंत्र नहीं है। ऐसे नागरिकों को सुविधा प्रदान करने के लिए सी.एम.वी.आर. 1989 में संशोधन करने का प्रस्ताव है। नागरिक भारतीय दूतावास या मिशन एब्रॉड पोर्टल्स के जरिए आवेदन कर सकते हैं और इसके बाद आवेदन संबंधित आर.टी.ओ. के पास विचार के लिए जाएगा। खास बात है कि विदेश में रहते हुए आई.डी.पी. के लिए अनुरोध करने के समय एक चिकित्सा प्रमाण पत्र और एक प्रमाणिक वीजा की शर्तों को हटाया जाना भी शामिल है क्योंकि जिन नागरिकों के पास प्रामाणिक ड्राइविंग लाइसैंस है, उन्हें अन्य चिकित्सा प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं होनी चाहिए। इसके अतिरिक्त कुछ ऐसे देश हैं जहां वीजा आॅन एराइवल है और ऐसे मामलों में यात्रा से पूर्व भारत में आई.डी.पी. के लिए आवेदन करते समय वीजा उपलब्ध नहीं होता। मंत्रालय ने इस संबंध में लोगों से सुझाव भी मांगे हैं। सुझावों को अधिसूचना जारी होने के 30 दिनों के भीतर संयुक्त सचिव (एम.वी.एल.आई.टी. एंड टोल) सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय, परिवहन भवन, पार्लियामैंट स्ट्रीट, नई दिल्ली पर भेजा जा सकता है।