गिरफ्तार

एटीएम कार्ड की क्लोनिंग कर पैसे उड़ाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, तीन शातिर गिरफ्तार

एटीएम से दूसरों के खाते से पैसे उड़ाने वाले गिरोह का मंडी में पर्दाफाश हुआ है। मंगलवार को मंडी में एटीएम कार्ड की क्लोनिंग कर दूसरों के खाते से पैसे निकालने वाले शातिरों को रंगे हाथ पकड़ा गया। साइबर सैल की टीम ने एटीएम कार्ड की क्लोनिंग कर पैसे निकालने वाले हरियाणा के दो शातिर युवाओं को एटीएम के अंदर से ही धर दबोचा है। वहीं पर उनका एक साथी जोगिंद्रनगर में दबोचा गया है। यह गिरोह पिछले चार पांच दिनों से मंडी में सक्रिय है। इस गिरोह के पकड़े गए दो शातिरों ने सुंदरनेगर और राजगढ़ के एटीएम से पैसे निकाले हैं। साइबर सैल की टीम ने बैंक अधिकारियों व शिकायतकर्त्ताओं की मदद से इन्हें धर दबोचा है। यह शातिर बड़ी चालाकी से एटीएम से पैसे निकाल रहे व्यक्ति के पीछे खड़े हो जाते थे और उनका कार्ड क्लोनिंग कर लेते थे। यह शातिर फिर दूसरे दिन उस अकाऊंट से पैसे निकाल लेते थे। मंडी में राज्य सहकारी बैंक के एटीएम से हरियाणा के दोनों युवाओं ने 20 हजार रुपये की राशि निकाली थी। मंडी में पान की दुकान करने वाले सुनील उर्फ निलु के एटीएम कार्ड को इन शातिरों ने 29 जनवरी को उस समय क्लोन कर लिया था, जब उसने एसबीआई मंडी के एटीएम से पांच हजार रूपए निकाले थे। 

उस दौरान एटीएम में वे दो शातिर भी थे। मंगलवार को उसके खाते से बीस हजार रुपए गायब थे। इस बारे वह बैंक में शिकायत करने गया। इस मौके पर बैंक मैनेजर जितेंद्र जंवाल और सुनील जब बैंक एटीएम के पास गए तो वहां दो युवक जो हरियाणा के बताए जा रहे हैं एटीएम से पैसे निकाल रहे थे, जिन्हें उसने पहचान लिया। राज्य सहकारी बैंक के बैंक मैनेजर जितेंद्र सिंह जंवाल ने बताया कि एटीएम से पैसे निकालने की शिकायत भी पुलिस को दो-तीन दिन से मिल रही थी, शिकायतकर्त्ताओं का कहना है कि जब उन्होंने एटीएम दो दिन पहले एटीएम से पैसे निकाले थे तो उनके पीछे दो लड़के खड़े थे, जो उन्हें पैसे निकालने के लिए मदद की बात कह रहे थे। उन्होंने कहा कि उसके बाद उनके खाते से 2 बार 10 हजार रुपए निकाले गए, जिसकी शिकायत उन्होंने बैंक में भी की थी। मंगलवार सुबह भी शिकायतकर्त्ता और साइबर ब्रांच के कर्मी सीसीटीवी फटेज की जांच करने आए तो इस दौरान बैंक के एटीएम में दो लड़के पैसे निकालने आए और वे एक के बाद एक करीब दस एटीएम कार्डों का उपयोग करने लगे, जिन्हें सुनील कुमार ने पहचान लिया। इसी बीच साईबर ब्रांच के कर्मी ने एटीएम के अंदर जाकर उनसे पूछा तो वे उनसे धक्का मुक्की करने लगे। 

मगर इसी बीच बाहर खड़े बैंक मैनेजर द्वारा शोर मचाने पर दोनों पीछे हट गए और एटीएम के बाहर लोग जमा हो गए। जिसकी वजह से वे एटीएम से निकल कर भाग नहीं पाए। इसी बीच सिटी पुलिस से भी पुलिस कर्मी मौके पर पहुंच गए, वे उनको पकड़कर सिटी पुलिस चौकी ले आए हैं। वहीं इस गिरोह के एक और सदस्य को जोगिंद्रनगर में पकड़ लिया है। जिसे मंडी लाया जा रहा है। सुनील और नेकराम ने बताया कि उनके बैंक का एटीएम उनके पास ही है। वहीं पर ऐसे में युवाओं ने पैसे कैसे निकाले यह हैरानी की बात है। वहीं एक अन्य शिकायतकर्त्ता ने भी दोनों युवकों को पहचाना है। एचपी स्टेट को-आॅप्रेटिव बैंक के सीनियर ब्रांच मैनेजर जितेंद्र जम्वाल का कहना है कि उन्हें काफी दिनों से एटीएम से पैसे निकालने की शिकायत मिल रही थी, जिसकी वे शिकायत आज कर्ताओं के साथ सीसीटीवी फुटेज भी चैक कर रहे थे और ठीक इसी दौरान वे शातिर एटीएम के अंदर घुसे हुए थे जिनको साइबर सैल व शिकायतकर्त्ताओं की मदद से पकड़ा गया है। इधर, पुलिस अधीक्षक मंडी अग्निहोत्री ने बताया कि साइबर सैल की टीम ने एटीएम क्लोनिंग के आरोप में दो युवकों को गिरफ्तार किया है और आगामी जांच शुरू कर दी है। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि जिला में इनकी गैंग में और लोग भी शामिल होने की संभावना है जिनके भी तलाशी जारी है।



Live TV

-->
Loading ...