Hathras scandal victim family

हाथरस कांडः पीड़ित के परिवार ने न्याय मिलने तक अस्थि विसर्जित से किया इनकार

हाथरसः उत्तर प्रदेश में हाथरस के पीड़ति परिवार ने मंगलवार यहां कहा है कि जब तक न्याय नहीं मिलेगा वे अपनी बेटी की अस्थियों का विसर्जन नहीं करेंगे।  इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ पीठ के समक्ष अपना सोमवार को बयान दर्ज कराने के बाद पीड़ति परिवार देर रात से वापस हाथरस अपने गांव पहुंच गया है। पीड़ति परिवार ने कहा है कि जब तक उनकी बेटी को न्याय नही मिल जाता तब तक वे अस्थि विसर्जन नही करेंगे।  
      
पीड़िता के पिता ने पत्रकारों से बातचीत में कहा ‘हमने न्यायालय के आदेश पर अपना बयान दर्ज कराया है। हालाँकि, अंग्रेजी में बातचीत चल रही थी और हम ज्यादा समझ नहीं सकते थे, लेकिन हम यह बता सकते थे कि न्यायालय हाथरस जिला प्रशासन से खुश नहीं था। हम अब न्याय चाहते हैं, जब तक हमें न्याय नहीं मिलेगा बेटी की अस्थि को  विसर्जित नहीं करेंगे।’ 

पीड़तिा का भाई, जो राष्ट्रीय राजधानी से लौटने पर न्यायलय में अपना बयान दर्ज कराने के लिए लखनऊ गया था, ने कहा, ‘न्यायालय में  हमारी बहिन के दाह संस्कार से संबंधित प्रश्न पूछे थे। न्यायालय ने यह भी पूछा कि क्या हमारी इच्छा के अनुसार दाह संस्कार किया गया था। यह सुनवाई लगभग एक घंटे तक चली और अधिकांश बातचीत अंग्रेजी में हुई, लेकिन न्यायालय निश्चित रुप से जिलाधिकारी से खुश नहीं थी।’