Coronavirus

और कितना गिरेगा इंसान, हैवानियत की हदें पार!

(लेखक : अखिल पाराशर, चाइना मीडिया ग्रुप में पत्रकार हैं)
हम क्या बन गए हैं? ईश्वर ने हमें एक बेहतर दुनिया बनाने और सोचने की शक्ति दी, लेकिन क्या हम वाकई इंसान हैं? यदि किसी जीव को हम बचा नहीं सकते तो मारने का अधिकार किसने दिया। दक्षिण भारत के केरल जैसे शिक्षित राज्य में एक गर्भवती हथिनी मल्लपुरम की सड़कों पर खाने की तलाश में निकली। कुछ गांव वालों ने उसे अनन्नास दिया और उस गर्भवती हथिनी ने इंसानों पर भरोसा कर के खालिया। लेकिन वह जानती नहीं थी कि उसे पटाख़ों से भरा अनन्नास खिलाया जा रहा है। पटाख़े उसके मुँह में फट गये और उसका मुँह और जीभ बुरी तरह चोटिल हो गईं।
दरअसल, यह खूबसूरत जीव बाद में एक सुंदर बच्चे को जन्म देने वाली थी गर्भ के दौरान भूख अधिक लग रही थी। उसे अपने बच्चे का भी ख्याल रखना था। मुँह में हुए ज़ख्मों की वजह से वह कुछ खान नहीं पार ही थी। घायल हथिनी भूख और दर्द से तड़पती हुई सड़कों पर भटकती रही। घायल होने के बावजूद, उसने किसी भी घर को नुकसान नहीं पहुंचाया और नही किसी एक इंसान को चोट पहुंचाई, जबकि वह नदी की ओर बढ़ गई और भारी दर्द से कुछ आराम पाने के लिए वहां खड़ी रही और उसने एक भी इंसान को घायल किए बिना नफरत की दुनिया छोड़ दी।
वह ख़बर ज़्यादा पुरानी नहीं हुई है जब अमेज़न के जंगल जले। इन जंगलों में न जाने कितने जीवों ने दम तोड़ा होगा। ऑस्ट्रेलिया में हज़ारों ऊँट मार दिए गए, यह कहकर कि वे ज़्यादा पानी पीते हैं। कितने ही जानवर मनुष्य के स्वार्थ की भेंट चढ़ते हैं।भारत में हाथियों की कुल संख्या 20 हजार से 25 हजार के बीच है भारतीय हाथी को विलुप्त प्रायजाति के तौर पर वर्गीकृत किया गया है।

पढ़े-लिखे मनुष्यों की सारी मानवीयता क्या सिर्फ मनुष्य के लिए ही हैं? ख़ैर पूरी तरह तो मनुष्यों के लिए भी नहीं है। हमारी प्रजाति में तो गर्भवती स्त्री को भी मार देना कोई नई बात नहीं है। इन पढ़े लिखे लोगों से बेहतर तो वे आदिवासी हैं जो जंगलों को बचाने के लिए अपनी जान लगा देते हैं। जंगलों से प्रेम करना जानते हैं। जानवरों से प्रेम करना जानते हैं।
एक ऐसा जानवर जो कि ज़माने में राजाओं की शान हो ताथा आज अपने अस्तित्व के लिए लड़ रहा है। धरती का एक बुद्धिमान, समझदार, दिमागदार, शाकाहारी जीव हमारा क्या बिगाड़ रहा है, जो हम उसके साथ ऐसा सलूक कर रहे हैं? कोरोना ने हम इंसानों का कच्चा-चिट्ठा खोलकर रख दिया है। यह बता दिया है कि हमने प्रकृति के दो हनमें सारी सीमा लांघ दी है लेकिन अब भी हमें अकल नहीं आई। हमारी क्रूरतान हीं गई। मनुष्य इस धरती का सबसे क्रूर और स्वार्थी प्राणी है। ईश्वर से दुआ है, यह हथिनी इन हैवानों के बीच फिर कभी जन्म ना ले। उसे सद् गति प्राप्त हो!
( साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग )