India Bahrain agree to increase cooperation

भारत, बहरीन ने रक्षा और समुद्री सुरक्षा के मामलों पर सहयोग बढ़ाने पर जताई सहमति

मनामाः भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर और बहरीन में उनके समकक्ष अब्दुल लतीफ बिन राशिद अल जयानी ने द्विपक्षीय मामलों और साझे हित के क्षेत्रीय एवं वैश्विक मामलों पर बुधवार को चर्चा की। दोनों नेताओं ने भारत और बहरीन के बीच रक्षा एवं समुद्री सुरक्षा समेत साझे हित के क्षेत्रों में अपने ऐतिहासिक संबंध और मजबूत करने पर सहमति जताई। जयशंकर बहरीन, संयुक्त अरब अमीरात और सेशेल्स के छह दिवसीय दौरे के पहले पड़ाव में मंगलवार को यहां पहुंचे। कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के बीच जयशंकर की बहरीन की पहली यात्र काफी महत्वपूर्ण समझी जा रही है।

विदेश मंत्रलय ने एक बयान में बताया कि जयशंकर ने जयानी के साथ प्रतिनिधि मंडल स्तर की वार्ता की, जिसमें दोनों पक्षों ने संपूर्ण द्विपक्षीय मामलों और कोविड-19 संबंधी चुनौतियों से निपटने में सहयोग एवं समन्वय समेत साझे हित के क्षेत्रीय एवं वैश्विक मामलों पर चर्चा की। बयान ने कहा, ‘‘उन्होंने रक्षा एवं समुद्री सुरक्षा, अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी, व्यापार एवं निवेश, बुनियादी ढांचा, आईटी, फिनटेक, स्वास्थ्य, हाइड्रोकार्बन और नवीकरणीय ऊर्जा जैसे क्षेत्रों में भारत और बहरीन के ऐतिहासिक संबंध और मजबूत करने पर सहमति जताई।’’ जयशंकर ने अगले महीने तीसरी भारत-बहरीन संयुक्त उच्चायोग की बैठक के लिए अपने बहरीनी समकक्ष को भारत आने के लिए फिर से आमंत्रित किया।उन्होंने बहरीन के नवनियुक्त प्रधानमंत्री शहजादे सलमान बिन हमाद अल खलीफा से बातचीत की और उन्हें प्रधानमंत्री नियुक्त किए जाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से बधाई दी। जयशंकर ने बहरीन के उपप्रधानमंत्री शेख अली बिन खलीफा अल खलीफा से भी मुलाकात की। जयशंकर ने बहरीन के उपप्रधानमंत्री से मुलाकात के दौरान भारत के लोगों तथा सरकार की ओर से उनके पिता एवं देश के पूर्व प्रधानमंत्री शहजादे खलीफा बिन सलमान अल खलीफा के निधन पर शोक व्यक्त किया।

पूर्व प्रधानमंत्री खलीफा का 11 नवंबर को 84 साल की उम्र में अमेरिका में निधन हो गया था, जहां उनका उम्र संबंधी बीमारियों का इलाज चल रहा था। उन्हें 13 नवंबर को सुपुर्द-ए-खाक किया गया था। वह प्रधानमंत्री पद पर सबसे ज्यादा समय तक सेवा देने वाले दुनिया के चंद नेताओं में शामिल रहे। जयशंकर ने ट्वीट किया कि बहरीन के उपप्रधानमंत्री शेख अली से मुलाकात की। उनके पिता शहजादे खलीफा का निधन होने पर उनके और उनके परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की। शाह हम्माद बिन ईसा अल खलीफा के चाचा, शहजादे खलीफा ने 1970 में प्रधानमंत्री का ओहदा संभाला था और अपने निधन तक इस पद पर काबिज़ रहे। वह 1971 में बहरीन के स्वतंत्र होने से एक साल पहले ही प्रधानमंत्री बन गए थे। जयशंकर ने कोरोना वायरस संकट के दौरान भारतीय समुदाय के लोगों का ह्लविशेष ख्याल रखनेह्व के लिए बहरीन को धन्यवाद दिया। जयशंकर ने मंगलवार देर रात ट्वीट किया, बहरीन यात्र की शुरुआत में विदेश मंत्री डॉ अब्दुल लतीफ बिन रशीद अल जयानी से मुलाकात की। पूर्व प्रधानमंत्री शहजादे खलीफा बिन सलमान अल खलीफा के निधन पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।  उन्होंने कहा, ह्लहमने ऐतिहासिक संबंधों और विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग पर चर्चा की। क्षेत्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर विचारों का आदान प्रदान हुआ। कोविड काल में भारतीय समुदाय के लोगों का विशेष ख्याल रखने के लिए बहरीन को धन्यवाद दिया।ह्व बहरीन में कोरोना वायरस से 85,800 लोग संक्रमित हुए हैं और 339 मरीजों की मौत हो चुकी है। बहरीन में भारतीय दूतावास की वेबसाइट के अनुसार वहां 3,50,000 भारतीय रहते हैं। यह बहरीन की कुल जनसंख्या का एक तिहाई है।
 

Loading ...