Indian economy, United Nations

2020 में भारतीय अर्थव्यवस्था का संकुचन 9.6 प्रतिशत रह सकता हैः UN रिपोर्ट

संयुक्तराष्ट्रः संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के अनुसार कोविड-19 और लॉकडाउन से प्रभावित 2020 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 9.6 प्रतिशत की गिरावट होने का अनुमान है। इसी रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय अर्थव्यवस्था 2021 में 7.3 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज कर सकती है। रिपोर्ट के अनुसार, लॉकडाउन और अन्य पाबंदियों से वायरस संक्रमण का प्रसार रुका नहीं, पर घरेलू उपभोग घट गया।
Android पर Dainik Savera App डाउनलॉड करें
विश्व की आर्थिक स्थिति और संभावनाओं पर इस बहुपक्षीय संगठन की रिपोर्ट वर्ल्ड इकोनामिक सिचुएशन एंड प्रास्पेक्ट्स के ताजा संस्करण में कहा गया है कि 2020 में विश्व अर्थव्यवस्था 4.3 प्रतिशत संकुचित हुई। यह संकुचन 2009 के ढाई गुना से ज्यादा है। 2021 में विश्व अर्थव्यवस्था में 4.7 प्रतिशत की हल्क वृद्धि हो सकती है और उससे 2020 के नुकसान की किसी तरह से भरपायी हो सकेगी। रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण एशिया में सभी अर्थव्यवस्थाओं पर महामारी का गहरा असर पड़ा है और इस क्षेत्र में 8.9 प्रतिशत की आर्थिक गिरावट का अनुमान है। रिपोर्ट के अनुसार इस क्षेत्र की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भारत में अपने इतिहास की सबसे बड़ी गिरावट का सामना करना पड़ा है और देश की अर्थव्यवस्था 2020 में करीब 10 प्रतिशत संकुचित हुई है।

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘भारत की आर्थिक वृद्धि दर 2019 में घट कर 4.7 प्रतिशत रह गयी थी और 2020 में इसमें 9.6 प्रतिशत गिरावट आ गई, क्योंकि राजकोषीय और मौद्रिक प्रोत्साहनों के बावजूद लॉकडाउन और अन्य नियंत्रणों के चलते घरेलू उपभोग घट गया, पर महामारी का प्रसार रुका नहीं।’’ संयुक्तराष्ट्र महाचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि दुनिया इस समय 90 साल के दौर का सबसे बड़ा स्वास्थ्य और आर्थिक संकट झेल रही है। हम मौतों की बढती संख्या से शोक संतप्त हैं। हमें यह ध्यान रहना चाहिए कि आज हम जो निर्णय करते हैं उससे हमारा सामूहिक भविष्य तय होगा।' 
Iphone पर  Dainik Savera App डाउनलॉड करें



Live TV

Breaking News

Loading ...