Love Jihad

‘लव जिहाद’ कानून लोगों का ध्यान भटकाने के लिए है : ओवैसी

हैदराबाद: एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने रविवार को कहा कि भाजपा शासित राज्यों में ‘लव जिहाद’ से संबंधित लाया जाने वाला कानून भाजपा की ओर से लोगों को मुख्य मुद्दों से ध्यान भटकाने का प्रयास है। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा बेरोजगारी और आर्थिक संकट की समस्या को सुलझा नहीं पा रही है, इसलिए इनसब चीजों को सामने ला रही है।

हैदराबाद के सांसद ने कहा,‘‘इस तरह के कानून संविधान के अनुच्छेद 14 और 21 का उल्लंघन होंगे। उन्हें (भाजपा शासित राज्यों को) संविधान पढ़ना चाहिए। वे इस नफरत में काफी आगे बढ़ गए हैं। यह काम नहीं करेगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘करोड़ों लोगों ने कोरोनावायरस की वजह से अपनी नौकरियां गंवा दी है। सरकार नौकरी नहीं दे सकती। जीडीपी जीरो हो गया है और सरकार इस संबंध में कुछ भी करने में सक्षम नहीं है। देश में नौकरी की जरूरत है। प्रवासी मजदूर कई तरह की मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। अर्थव्यवस्था लगातार नीचे जा रही है और बच्चे बाल मजदूरी के दलदल में धंसते चले जा रहे हैं। लेकिन इन सब मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए, वे इस तरह की ड्रामेबाजी कर रहे हैं।’’

ओवैसी ने दोहराया कि गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम एक कठोर कानून है और इसके लिए कांग्रेस और भाजपा दोनों जिम्मेदार हैं। यह देखते हुए कि दुनिया के किसी भी देश में एक कानून नहीं है जो 120 दिनों तक हिरासत में रखने का प्रावधान करता है, उन्होंने आरोप लगाया कि अल्पसंख्यकों, दलितों, आदिवासियों और सरकार के खिलाफ लोगों को निशाना बनाने के लिए ऐसे कठोर कानून बनाए जाते हैं।

उन्होंने कहा कि इस बात के अनुभवजन्य प्रमाण हैं कि 70 प्रतिशत मामलों में आरोपी निर्वासित हैं, लेकिन केवल 5-6 साल जेल में रहने के बाद।

इस रिपोर्ट पर कि सरकार डी-रेडिकलाइजेशन की योजना बना रही है, ओवैसी ने जानना चाहा कि क्या यह केवल एक समुदाय या सभी के लिए होगा? उन्होंने कहा कि भाजपा यह स्पष्ट करे कि क्या दो सांसद महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को महान देशभक्त कहने वाले कट्टरपंथी नहीं हैं? उन्होंने कहा कि भाजपा सांसदों ने अखलाक और अलेमुद्दीन के हत्यारों का सम्मान किया और पार्टी ने इस्लाम के खिलाफ कोरोनोवायरस को जोड़ा।

यह पूछे जाने पर कि क्या एआईएमआईएम पश्चिम बंगाल में चुनाव लड़ने के लिए ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस से हाथ मिलाएगी, उन्होंने कहा कि पार्टी राज्य इकाई के साथ विचार-विमर्श के बाद चुनाव लड़ने का फैसला करेगी। 

उन्होंने कहा, ‘‘हम मिलने जा रहे हैं और चर्चा के बाद एक विचारशील निर्णय पर पहुंचेंगे और आपको बताएंगे।’’ 

ओवैसी को भरोसा है कि एआईएमआईएम 1 दिसंबर को ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) के चुनाव में अच्छा प्रदर्शन करेगी। उन्होंने स्पष्ट किया कि तेलंगाना राष्ट्र समिति के साथ इसका कोई गठबंधन नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘‘तेलंगाना में एआईएमआईएम एकमात्र ऐसी पार्टी है जो साल भर काम करती है। इसकी कार्यशैली अन्य दलों से अलग है। ये सभी पार्टियां केवल चुनाव के समय सक्रिय हो जाती हैं, लेकिन हम पूरे साल लोगों के बीच काम करते हैं।’’

सांसद ने बताया कि कई वार्डो में, एआईएमआईएम उम्मीदवारों को टीआरएस के खिलाफ खड़ा किया जाता है। उन्होंने कहा कि टीआरएस, कांग्रेस और भाजपा सभी उनकी पार्टी को निशाना बना रहे हैं।

जीएचएमसी के चुनावों को देशभक्तों और देशद्रोहियों के बीच लड़ाई करार देने वाली भाजपा पर, ओवैसी ने कहा कि यह इस पार्टी की पुरानी आदत थी।

उन्होंने कहा, ‘‘यदि आप रात में एक भाजपा नेता को जगाते हैं और उसे कुछ नाम देने के लिए कहते हैं, तो वह पहले ओवैसी, फिर गद्दार, आतंकवाद और पाकिस्तान कहेगा।’’

उन्होंने कहा कि चूंकि भाजपा सरकार ने तेलंगाना और बाढ़ प्रभावित हैदराबाद के लिए कुछ नहीं किया है, इसलिए वह चुनावों को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश कर रही है।

यह पूछे जाने पर कि क्या एआईएमआईएम टीआरएस अध्यक्ष और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव द्वारा प्रस्तावित भाजपा विरोधी मोर्चे का हिस्सा होगी, ओवैसी ने कहा, ‘‘मुङो नहीं पता कि वे बी पार्टी लेंगे।’’