स्कूल

हरियाणा में खुले मिडल स्कूल, बच्चों में खुशी की लहर

लॉकडाउन के बाद राज्य सरकार ने पहली बार मिडिल स्कूल के बच्चों को स्कूल में प्रवेश की इजाजत दी है। आज कक्षा छठी, सातवीं और आठवीं के बच्चे एक लंबे अंतराल के बाद स्कूल में आए। स्कूलों में इसके लिए कोविड-19 इनका पालन करना जरूरी है जिसके तहत बच्चों को अपना कोविड-19 का टेस्ट व रिपोर्ट माता-पिता की लिखित परिमशन देनी होगी। कैथल के सरकारी स्कूलों में सब कुछ ठीक-ठाक मिला। बच्चे बड़े खुश नजर आ रहे थे। बच्चों ने एक दूसरे के साथ अपनी खुशी सांझा की। उन्होंने कहा कि मार्च के बाद वे पहली बार स्कूल आए हैं, घर में हम रह रह कर बोर हो गए थे, खेलना भी अच्छा नहीं लगता था। बच्चों ने कहा कि वे काफी समय से दोस्तों से भी नहीं मिले थे। सभी के पास मोबाइल भी नहीं थे जो ऑन लाइन पढ़ाई कर सकें। अब हमारे अध्यापक हमें पढ़ा रहे हैं, हमें समझ में भी आ रहा है। उन्होंने कहा कि स्कूल हमेशा खुले रहने चाहिए। स्कूल की प्रिंसिपल विमला देवी ने बताया कि पूर्व में 9वीं 10वीं और 12वीं की कक्षाएं लगाने शुरू की थी जो प्रयास सफल रहा। दो महीने में किसी बच्चे को भी कोई करोना नहीं हुआ, ना ही कोई इंफेक्शन हुआ। अब सरकार ने दिशा निर्देश दिए हैं कि छठी से लेकर आठवीं तक की कक्षाएं लगानी हैं तो हम अभिभावकों से अपील करते हैं कि अपने बच्चों को कोविड-19 का टेस्ट  करवा कर और अपने लिखित परिमशन के साथ स्कूल में भेजें। उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी पूरी तरह से स्कूल की है। स्कूल में हम अच्छे से पढ़ाने को तैयार हैं ताकि बच्चे का भविष्य उज्जवल हो सके।



Live TV

Breaking News

Loading ...