Nitish targeted the Lalu family

नीतीश ने लालू परिवार पर साधा निशाना, एश्वर्य के प्रति व्यहवार को बताया अनुचित

परसाः मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव के विवाह से जुड़ी घटना का जिक्र करते हुए कहा कि महिलाओं एवं लड़कियों के खिलाफ इस प्रकार का व्यवहार ‘अनुचित’ है। साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि राजद नेता ने अपनी पत्नी राबड़ी देवी को मुख्यमंत्री बनाने के अलावा महिलाओं के कल्याण के लिए कोई काम नहीं किया। मुख्यमंत्री ने चुनावी सभाओं को संबोधित करते हुए विकास और महिलाओं के सशक्तिकरण के मुद्दे पर राजद नेता लालू प्रसाद पर परोक्ष प्रहार किया और कहा कि उन्होंने 15 वर्ष के राजद के शासनकाल में अपनी पत्नी को मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बिठाने के अलावा महिलाओं के कल्याण के लिये कोई काम नहीं किया नीतीश कुमार ने परसा में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘चंद्रिका राय को हम 1985 से जानते हैं, जब हम दोनों विधायक बने थे ।’ परसा सीट से चंद्रिका राय जदयू के उम्मीदवार हैं जिनकी पुत्री एश्वर्य राय का विवाह तेजप्रताप के साथ हुआ था। दोनों के रिश्ते आगे नहीं बढ़ पाये और फिलहाल यह मामला अदालत में है। 

इस वजह से दोनों परिवारों के बीच खराब हुए संबंधों के बाद चंद्रिका राय ने नीतीश कुमार की पार्टी जदयू का दामन थाम लिया था। चंद्रिका राय ने पिछला चुनाव राजद के टिकट पर जीता था उन्होंने कहा, ‘आज इनके (चंद्रिका राय) साथ जो व्यवहार हुआ है, हमको लगता है कि प्रकृति इसके बारे में जरूर ध्यान रखेगी। ’एश्वर्य और तेजप्रताप की शादी से जुड़े घटनाक्रम के संदर्भ में कुमार ने हैरत जताते हुए कहा, ‘ये कैसे हुआ, इतनी पढ़ी लिखी महिला है और इनके साथ जैसा व्यवहार हुआ, वह किसी को अच्छा नहीं लगा।’ मुख्यमंत्री ने कहा, ‘शादी में तो हम भी गए थे । लेकिन बाद में जो दृशय़ सामने आया, वह दृशय़ किसी को अच्छा नहीं लगा।’ नीतीश ने कहा कि लड़कियों और महिलाओं के खिलाफ इस तरह का व्यवहार कुछ लोगों को कुछ समय तक दिखायी नहीं देता है लेकिन भविष्य में दिखाई पड़ेगा कि लड़कियों और महिलाओं के साथ ऐसा काम कितना खराब होता है। इस प्रसंग का उल्लेख करते हुए नीतीश कुमार ने हालांकि लालू प्रसाद का नाम नहीं लिया। परसा में मुख्यमंत्री की रैली के दौरान एश्वर्य राय भी मौजूद थी। एश्वर्य राय ने नीतीश कुमार के पांव छुकर आशीर्वाद लिया।
एश्वर्य ने चुनाव सभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘मैं अपने पिता के लिए आप सभी लोगों से वोट मांगने आई हूं। यह परसा विधानसभा क्षेत्र के मान सम्मान की बात है।’ उन्होंने मतदाताओं से उनके पिता को जिताने और नीतीश कुमार को फिर मुख्यमंत्री बनाने की अपील की। मुख्यमंत्री की सभा के दौरान पीछे खड़े कुछ लोगों ने शोर शराब भी किया। इस पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सभा में मौजूद लोगों से कहा कि उन्हें पता है कि ये किसके इशारे पर आए है। पूर्वी चंपारण के केसरिया और सारण के मढौरा में चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए कुमार ने कहा कि राजद को 15 साल काम करने का मौका मिला लेकिन उन्होंने किसी के लिये कुछ नहीं किया। नीतीश ने अपने भाषणों उनकी सरकार द्वारा महिलाओं के उत्थान के लिये किये गए कार्यो को भी रेखांकित किया।उन्होंने कहा कि आज राज्य में अपराध की दर काफी नीचे चली गयी है और अपराध के मामले में बिहार देश में 23वें स्थान पर है। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘पहले बिहार का बुरा हाल था, चाहे अपराध हो, साम्प्रदायिक दंगे हो, अपहरण हो..हर तरह से लोग परेशान थे। ऐसे में हमने कानून का राज स्थापित किया।’ उन्होंने कहा कि वह अपराध, भ्रष्टाचार और साम्प्रदायिकता को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेंगे।