Uttarakhand tragedy

उत्तराखंड त्रासदी: अब 4 अलग अलग साइट पर शुरू होगा सर्च आपरेशन

नई दिल्लीः उत्तराखंड के आपदा ग्रस्त क्षेत्र से अभी तक 58 शव बरामद किए गए। इनमें से 30 मानव शव तथा एक मानव अंग की पहचान हुई है। वहीं अभी तक मृत पाए गए 27 व्यक्तियों की शिनाख्त नहीं हो सकी है। उत्तराखंड प्रशासन में अब प्रभावित क्षेत्रों में 4 अलग अलग साइट पर सर्च अभियान चलाने का निर्देश दिया है। साथ ही नदी किनारे पड़े मलवा में भी एप्रोच बनाकर लापता लोगों की सर्च करने के आदेश जारी किए गए हैं। 

उत्तराखंड त्रसदी के उपरांत अभी तक राज्य सरकार की मदद से विशेषज्ञ डॉक्टरों ने 56 मृतकों के डीएनए लिए हैं। राज्य सरकार के मुताबिक राहत एवं बचाव अभियान अभी भी युद्ध स्तर पर जारी है और इस दौरान यहां से एवं 22 मानव अंग भी मिले हैं। उत्तराखंड सरकार के मुताबिक श्रेणी एवं तपोवन क्षेत्र में अभी भी 146 लापता लोगों की तलाश जारी है। बुधवार को आपदा प्रभावित क्षेत्र की जिला मजिस्ट्रेट स्वाति एस भदौरिया ने रैणी में चलाए जा रहे रेस्क्यू कार्य का स्थलीय निरीक्षण किया। उन्होंने स्थानीय प्रत्यक्षदर्शियों व लापता लोगों के परिजनों से बातचीत कर, बताए गए स्थलों पर संबंधित अधिकारी को 4 अलग अलग साइट पर सर्च अभियान चलाने के दिशा निर्देश दिए। कहा कि नदी किनारे पड़े मलवा में भी एप्रोच बनाकर सर्च करें।

इसके साथ ही बीआरओ के समीक्षा के दौरान रैणी में बेलीब्रीज निर्माण कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए। इसके अलावा उन्होंने लोनिवि, जलसंस्थन, विद्युत, संचार कार्य प्रगति की जानकारी लेते हुए संबंधित अधिकारी को आवश्यक दिशा निर्देश दिए हैं। गढ़वाल मंडल आयुक्त रविनाथ रमन ने भी को आईआरएस कैंप कार्यालय में आपदा प्रभावित क्षेत्रों में राहत एवं बचाव कार्य को लेकर जिला मजिस्ट्रेट स्वाति एस भदौरिया एवं संबंधित अधिकारी के साथ समीक्षा बैठक की है। रैणी क्षेत्र में रेस्क्यू ऑपरेशन की जानकारी लेते हुए, आईटीबीपी, एनडीआरएफ व जिला प्रशासन के टीम को युद्ध स्तर पर रेस्क्यू कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए गए हैं। आवश्यकता पड़ने पर मशीनों की संख्या बढ़ाने को कहा गया है।











Live TV

-->
Loading ...