heart, diet, snoring

Over Dieting या Snoring जैसी समस्या बढ़ा सकती है Heart के लिए खतरा

आज कल के बिगड़ते लाइफस्टइल में 90 प्रतिशत लोग दिल से जुडी बीमारियों से जूझ रहे हैं। बता दें की ये परेशानियों का करण स्मोकिंग, शराब, जरूरत से ज्यादा खाना और एक्सरसाइज न करने जैसी चीजे होते हैं। हमारे स्वस्थ रहना है तो दिल संबंधी परेशानियों को हमेशा दूर रखना चाहिए। अगर आप चाहते हैं की आपका दिल हमेशा सेहतमंद रहे तो आपको ऐसी चीजों को खुद से दूर रखना चाहिए जो आपके लिए खतरा बन सकती हैं, जैसे के -

तनाव: हम सभी की जिंदगी में चिंता, तनाव या फिर अवसाद जरूर रहता है, इस तरह के इमोशन्स को जिंदगी से निकाल पाना आसान बात नही है, परन्तु हम इसके प्रति सचेत रहे तो इससे निजात पाना आसान है. योग, मेडिटेशन और एक्सरसाइज तनाव से निजात दिलाने में मददगार हो सकते है। 

एल्कोहल: विशेषज्ञ की बातो पर विश्वास करे तो रेड वाइन का इस्तेमाल हार्ट की सेहत के लिए फायदेमंद हो सकता है, परन्तु इसके अतिरिक्त किसी भी प्रकार की अन्य शराब आपकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकती है. एल्कोहल के अधिक सेवन से शरीर में कैलोरी की मात्रा में बढ़ जाती है। 

खर्राटे: खर्राटे जैसी समस्या केवल आपकी की ही नहीं बल्कि किसी अन्य व्यक्ति की परेशानी बन सकता है. खर्राटों को स्‍लीप ऐप्‍निआ का लक्षण माना जाता है. स्‍लीप ऐप्‍निआ, सोते वक्त सांस लेने से जुड़ी अनियमितता को माना जाता है. इससे ग्रसित लोगो को दिल से सम्बंधित बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। 

डाइट सोडा: गर्मी के मौसम में डाइट सोडा पीने से भले ही कुछ देर के लिए राहत मिलती है, लेकिन यह आपके हार्ट के लिए ठीक नहीं है. अगर आप लगातार डाइट सोडा पीते हैं, तो स्ट्रोक के अलावा दिल संबंधी दूसरी बीमारियों के शिकार हो सकते हैं। 

कम या ज्यादा सोना: अगर आप पांच घंटे से कम या फिर नौ घंटे से अधिक सोते हैं, तो इससे रक्तचाप और तनाव का स्तर बढ़ सकता है. इस वजह से धमनियों से जुड़ी समस्याएं खड़ी हो सकती हैं. बेहतर होगा अपनी नींद को संतुलित करें। 

ओवर ईटिंग: मोटापा दिल संबंधी बीमारियों का एक बड़ा कारण है. जरूरत से ज्यादा भोजन और एक्सरसाइज न करने से मोटापे की समस्या जन्म लेती है. सेहत को ठीक रखने के लिए अच्छा होगा की भूख से थोड़ा कम खाना खाएं और जहां तक संभव हो सके मीठे और हाई कैलोरी फूड से बचने की कोशिश करें.

स्मोकिंग: अगर दिन में आप एक सिगरेट भी पीते हैं, तो दिल संबंधी बीमारियों का खतरा दोगुना हो जाता है. यही नहीं, इसके कारण कैंसर समेत फेफड़ों से जुड़ी अन्य कई बीमारियां भी हो सकती हैं. इसलिए आप इस खतरे की जड़ को तुरंत ही काट दे। 

ओरल हाइजीन: खराब ओरल हेल्‍थ से कार्डियोवस्कुलर समस्याएं भी जन्म ले सकती हैं. मसूढ़ों के बैक्टीरिया रक्त-वाहिकाओं में प्रवाहित होने लगते हैं, जिसके कारण रक्त-प्रवाह कम हो जाता है, जो हार्ट की स्थिति के लिए ठीक नहीं है। 



Live TV

Breaking News

Loading ...