Railways cancel tender to build 44 rakes

रेलवे ने वंदे भारत एक्सप्रेस के 44 रैक बनाने का टेंडर किया रद्द

नई दिल्लीः भारतीय रेल ने शुक्रवार को वंदे भारत एक्सप्रेस यानी ट्रेन 18 के 44 रैकों के निर्माण के लिए जारी किए गए टेंडर को रद्द कर दिया। साथ ही कहा है कि एक सप्ताह के भीतर एक नया टेंडर जारी किया जाएगा। ‘मेक इन इंडिया’ पर फोकस के बीच यह कदम उठाया गया है, क्योंकि इस टेंडर में एक चीनी जॉइंट वेंचर वाले विदेशी बोलीदाता ने भी हिस्सा ले लिया था।  रेल मंत्रलय ने एक बयान में कहा, ‘सेमी हाई-स्पीड ट्रेन सेट (वंदे भारत) के 44 सेटों के निर्माण के लिए निविदा रद्द कर दी गई है। संशोधित सार्वजनिक खरीद (मेक इन इंडिया को प्राथमिकता देने) के आदेश के अनुसार एक सप्ताह के भीतर नए सिरे से निविदा जारी की जाएगी।’ बता दें कि वैश्विक स्तर पर आमंत्रित किए गए टेंडर में चीनी जांइट वेंचर कंपनी सीआरआरसी पायनियर इलेक्ट्रिक (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड एकमात्र विदेशी बोलीदाता के रूप में सामने आया था।

चेन्नई स्थित आईसीएफ ने ट्रेन 18 के लिए इलेक्ट्रिक ट्रैक्शन किट की खरीद के लिए बोलियां आमंत्रित की हैं, जो बिना इंजन वाली देश की पहली स्व-चालित ट्रेन है। इन ट्रेनों का निर्माण आईसीएफ द्वारा किया गया था, जिसका स्वामित्व भारतीय रेलवे के पास है। इसमें 80 प्रतिशत से अधिक सामग्री स्वदेशी है, जिन्हें बाद में वंदे भारत एक्सप्रेस नाम दिया गया। पिछले साल फरवरी में पहली ट्रेन नई दिल्ली और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के बीच और दूसरी अक्टूबर में नई दिल्ली और कटरा के बीच शुरू की गई थी। 

नवंबर 2019 में रेलवे बोर्ड ने सेमी हाई-स्पीड ट्रेनों की मैन्युफैक्चरिंग के लिए आईसीएफ को आगे बढ़ने को कहा, जिसके बाद ये टेंडर मंगाए गए। बीते दिसंबर में भारतीय रेल ने भारत के 75वें स्वतंत्रता दिवस पर 44 और नई रैक के उत्पादन को पूरा करने की योजना बनाई थी। वंदे भारत एक्सप्रेस के सभी कोचों में एक स्टेनलेस स्टील की कार बॉडी है, जिसमें ऑटोमेटिक दरवाजे, ट्रेन के नियंत्रण और रिमोट मॉनिटरिंग के लिए ऑन-बोर्ड कंप्यूटर है, जीपीएस-आधारित ऑडियो-विजुअल यात्री सूचना प्रणाली, ऑन-बोर्ड हॉटस्पॉट वाईफाई जैसी कई सुविधाएं हैं।