Punjabi language

पंजाबी को जम्मू-कश्मीर की आधिकारिक भाषाओं की सूची में शामिल करने का अनुरोध करेगा अकाली दल

चंडीगढ़: शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह से पंजाबी को जम्मू-कश्मीर की आधिकारिक भाषाओं की सूची में शामिल करने का अनुरोध करेगा। पार्टी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि शिअद संसद में भी यह मुद्दा उठाएगा। शिअद अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में इस संबंध में फैसला लिया गया है। केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने दो सितंबर को एक विधेयक को मंजूरी दी थी, जिसके तहत कश्मीरी, डोगरी और हिंदी जम्मू-कश्मीर की आधिकारिक भाषाएं होंगी। उर्दू और अंग्रेजी पहले से ही आधिकारिक भाषाएं हैं। बयान में कहा गया है कि शिअद पंजाबी को जम्मू-कश्मीर की आधिकारिक भाषाओं की सूची में शामिल करने की मांग करेगा। बादल ने कहा कि इस मुद्दे को लेकर जम्मू-कश्मीर और अन्य स्थानों पर रह रहे सिखों और पंजाबियों में भारी असंतोष है।