Hardworking women

मेहनती महिलाओं को सलाम

8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस है। इस मौके पर हम व्यापक रूप से नए युग में महिलाओं के स्थान और हित की चर्चा करते हैं। प्राचीन काल से ही चीन में महिलाएं पुरुषों की तरह श्रेष्ठ हैं, जैसा कि महिला सेनापति प्राचीन युद्ध के मैदान में देखने को मिलती थीं, आधुनिक युग में बहुत महिला लेखक दुनिया भर में प्रसिद्ध थीं, वर्तमान में श्रेष्ठ महिला सुयोग्य व्यक्ति अनगिनत हैं।

अब एनपीसी और सीपीपीसीसी के वार्षिक सम्मेलन पेइचिंग में चल रहे हैं। सभा स्थल में विभिन्न जगतों की महिला प्रतिनिधि और महिला सदस्य आत्मविश्वास के साथ अपना व्यक्तित्व व चाल-ढाल दिखाती हैं और जी-जान से अपना दायित्व निभाती हैं। नए चीन की स्थापना के बाद चीनी कम्युनिस्ट पार्टी और सरकार महिला से जुड़े काम और महिलाओं के हितों की रक्षा पर बड़ा ध्यान देती हैं। व्यापक चीनी महिलाओं का राजनीतिक स्थान, सामाजिक स्थान और पारिवारिक स्थान लगातार उन्नत हो रहा है। महिलाएं समाज में मुख्य शक्ति बन गयी हैं। चीन में महिलाएं न सिर्फ आधे आकाश को थाम सकती हैं, बल्कि समाज को अधिक प्रगतिशील बनाती हैं।

अचानक फैली कोविड-19 महामारी के सामने बहुत सारी महिला चिकित्सक जनता की जान और स्वास्थ्य के लिए साहस के साथ महामारी की रोकथाम में शामिल हुईं। उनमें कुछ ने परिजनों की चिंता दूर करने के लिए वुहान जाने की बात नहीं बतायी। जब तक परिजनों ने न्यूज कार्यक्रम में संबंधित रिपोर्ट देखी, तब तक शिकायत करने के बजाय उनकी प्रशंसा की। कुछ महिला चिकित्सक अपने छोटे बच्चों को छोड़कर महामारी की रोकथाम के लिए चली गयीं, केवल वीडियो कॉल के जरिये बेटे-बेटी के साथ बातचीत कर सकती थीं।

इससे पहले पूर्वोत्तर चीन के ल्याओनिंग प्रांत के शनयांग स्थित न्यूक्लिक एसिड टेस्ट स्टेशन में एक 7 वर्षीय लड़की ने मीठी आवाज में नमूना ले रही डॉक्टर से कहा कि आंटी, आपकी आवाज मेरी मां जैसी है, आप लोग इतनी मेहनत से काम करते हैं। उसे नहीं पता कि वास्तव में यह आंटी उसकी मां ही हैं, जो कई दिनों तक नहीं देखी। काम पर प्रभाव न पड़ने की वजह से डॉक्टर ने अपनी बेटी को पहचान नहीं बतायी, परंतु अपने आंसू रोके रखे। जब रात को काम खत्म हुआ, तब वीडियो कॉल में उसने बेटी को तथ्य बताया। ममता और महामारी के तराजू में महिला चिकित्सकों ने महामारी की रोकथाम को प्राथमिकता दी।

वहीं, गरीबी के खिलाफ लड़ाई में महिलाएं न सिर्फ लाभ उठाती हैं, बल्कि हिस्सा लेती हैं और योगदान भी करती हैं। गरीबी उन्मूलन के काम में लगी महिला कर्मचारी और गरीब महिलाएं सब उत्साह से भरी हैं। उनमें कुछ तो गांववासियों के नेतृत्व में विशेष व्यवसाय का विकास करती हैं और अपनी मेहनत से अमीर बनती हैं, कुछ तो ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा का विकास करने में जुटी हैं, जिससे बहुत से युवाओं के भाग्य बदले, और कुछ तो ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म का व्यापार करती हैं और गरीबी से बाहर निकलने के बाद गांववासियों की सहायता करती हैं। गरीबी उन्मूलन के कार्य में महिलाएं महत्वपूर्ण योगदान देती हैं।

उदाहरण के लिए गरीबी उन्मूलन में राष्ट्रीय आदर्श मिसाल की उपाधि से सम्मानित ह्वांग वनश्यो का जन्म वर्ष 1989 में हुआ था। मास्टर की डिग्री मिलने के बाद उसने बड़े शहर में रोजगार का मौका छोड़कर वर्ष 2018 में गृहनगर वापस लौटकर गांव की प्रथम सचिव बनी। एक साल से अधिक समय में उसने गांव में संतरे के रोपण की तकनीक पहुंचायी और गांववासियों को ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर व्यापार करने का कौशल सिखाया। उसके नेतृत्व में गांव के 88 परिवारों के 417 लोग मकानों के स्थानांतरण, शिक्षा और उत्पादन के विकास से गरीबी से बाहर निकल चुके हैं। गांव में गरीबी दर 22.88 प्रतिशत से 2.71 प्रतिशत तक कम हुई, गांव की सामूहिक आर्थिक आय में दोगुना बढ़ोतरी हुई। लेकिन खेद की बात है कि वर्ष 2019 में ह्वांग वनश्यो काम के रास्ते पर भूस्खलन से ग्रस्त होने से मर गयी, तब वह सिर्फ 30 साल की थी। चीन में ह्वांग वनश्यो की तरह तमाम महिला कर्मचारी गरीबी उन्मूलन के कार्य में मेहनत से काम करती हैं और भरसक प्रयास करती हैं। उन्होंने उल्लेखनीय उपलब्धियां हासिल कीं।

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने वर्ष 2015 में आयोजित विश्व महिला शिखर सम्मेलन में कहा था कि महिलाएं भौतिक सभ्यता और मानसिक सभ्यता की निर्माता हैं, जो सामाजिक विकास और प्रगति बढ़ाने की महत्वपूर्ण शक्ति हैं। कहा जा सकता है कि आज चीन में हासिल हर प्रगति में अरबों महिलाओं की हिस्सेदारी होती है। लेकिन दुनिया भर में विभिन्न देशों और क्षेत्रों में महिला कार्य के विकास का स्तर फिर भी असंतुलित है। पुरुष और महिला में अधिकार, अवसर और संसाधन के वितरण में असमानता फिर भी मौजूद है। महिलाओं की क्षमता, कुशलता और योगदान पर समझ फिर भी अपर्याप्त है। महिलाओं पर भेदभाव और पक्षपात दूर करने के बाद ही समाज और सहिष्णुतापूर्ण और जीवित होगा।
(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)




Live TV

-->
Loading ...