amritsar

श्री अकाल तख्त साहिब से सज़ा के बाद सीनियर मीत प्रधान राजिंदर सिंह मेहता ने छोड़ा पद

अमृतसरः श्री अकाल तख्त साहिब द्वारा 2016 की अंतरिम कमेटी के सदस्यों को पावन स्वरुपों के लापता मामले में दोषी पाया गया और उन्हें धार्मिक सजा भी सुनाई गई। इसी के चलते सीनियर मीत प्रधान के पद पर आसीन राजिंदर सिंह मेहता ने पद से इस्तीफा दे दिया है। बता दें कि भाई राजिंदर सिंह मेहता अब वाली अंतरिम कमेटी में बतौर मीत सीनियर प्रधान के तौर पर सेवाएं निभा थे, जिसके चलते अब उन्हें यह पद छोड़ना पड़ा। 


बता दें कि श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी के लापता 328 पावन स्वरुपों के मामले में श्री अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह द्वारा जांच में दोषी पाए जाने वाले दोषियों को धार्मिक सजा सुनाई गई, जिसके मुताबिक,2016 वाली अंतरिम कमेटी के सभी सदस्यों को एक सहज पाठ स्वंय करना होगा या फिर पाठी साहिबान से करवाए जाएंगे, अपने नजदीकी गुरुद्वारा साहिब में सेवा करनी होगी और 1 साल तक शिरोमणि कमेटी में कोई भी पद नहीं दिया जाएगा।