China

विशेष उद्योगों से ग्रामीण समृद्धि में तेजी लाई गयी

गरीबी उन्मूलन अंत नहीं है, बल्कि एक नया प्रारंभिक बिंदु है। विभिन्न विशिष्ट गांवों और कस्बों का दिन दोगुनी रात चौगुनी के साथ विकास हो रहा है। चीन विशेष उद्योगों पर निर्भर करते हुए ग्रामीण समृद्धि की दिशा में आगे बढ़ रहा है।

तिब्बत के न्यिंगची शहर के मिलिन जिले के शीगा गांव समुद्र तल से 2950 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। पूरे गांव में कुल 69 परिवार रहते हैं, जो सभी मोटूओ जिले के कठोर प्राकृतिक वातावरण और असुविधाजनक परिवहन वाले पहाड़ी क्षेत्रों से यहाँ स्थानांतरित हुए हैं। अब यहां का प्रत्येक परिवार चेरी की खेती करता है। 2016 में गरीबी उन्मूलन के बाद वहां विशेष उद्योग का विकास शुरू हुआ। 2018 में शीगा गांव ने 2000 चेरी पेड़ों का रोपण का परीक्षण शुरू किया। 2020 तक, पूरे गांव में चेरी की खेती से होने वाली आय 2 लाख युआन तक जा पहुंची और गांववासियों को अमीर बनाने का परिणाम बहुत स्पष्ट है। 

केवल न्यिंगची में ही नहीं, बल्कि 3,600 मीटर की ऊँचाई पर स्थित शाननान शहर के सांगरी जिले, चानांग जिले आदि क्षेत्रों में चेरी, अंगूर जैसे फलों के विशेष रोपण उद्योग ग्रामीण समृद्धि बढ़ाने के नये हाइलाइट्स बन रहे हैं।

शिनच्यांग के शाछे जिले के स्थानांतरण स्थल पर, अधिकांश स्थानांतरित गांववासियों के पास छोटे पैमाने वाले पशुपालन के अनुभव हैं तो स्थानीय सरकार ने उन के घरों के बाहर एक ऊंट पालन फार्म स्थापित किया, जहां प्रति दिन 300 किलोग्राम से अधिक दूध का उत्पादन किया जा सकता है। 80 युआन प्रति किलोग्राम के बाजार मूल्य के आधार पर ऊँटनी के दूध की दैनिक बिक्री की आय 24 हजार युआन से अधिक है। 

क्वीचो प्रांत के छ्येनशीनान प्रीफेक्चर के आनलोंग जिले ने राष्ट्रीय "पूर्वी-पश्चिमी गरीबी उन्मूलन सहयोग" योजना के आधार पर खाद्य मशरूम उद्यम को आकर्षित कर खाद्य मशरूम और अन्य पहाड़-विशिष्ट कृषि का पूरी तरह विकास शुरू किया। 25 हजार किसानों ने कार्स्ट पहाड़ से बाहर निकलकर मशरूम उगाना शुरू किया। 2019 में पूरे जिले के लगभग 20 हजार गरीब लोगों को सफलतापूर्वक गरीबी से बाहर निकाला गया।

युन्नान प्रांत के छ्यूचिंग शहर के लुओश्याओ गांव पहले समय में बाहरी दुनिया से अलग-थलग था। 2016 में स्थानीय सरकार ने गांव पहुंचने वाली सड़कों का निर्माण किया और गांववासियों को चेरी, नाशपाती आदि फलों को उगाने और मुर्गियों, भेड़ों और मधुमक्खियों के पालन के लिए निर्देशित किया। गांववासियों की प्रति व्यक्ति वार्षिक आय 2015 के 2 हजार युआन से बढ़कर अब 15 हजार युआन तक जा पहुंची। और साथ ही लुओश्याओ गांव सुंदर और रहने योग्य गांवों के निर्माण का मॉडल गांव बन गया।
(मीनू)




Live TV

-->
Loading ...