China

तकनीकी नवाचार चीन में आर्थिक और सामाजिक विकास में नई उम्मीद है

हाल में चीन ने एक रॉकेट से 13 उपग्रहों का सफल प्रक्षेपण किया, जो चीन के अंतरिक्ष कार्य में एक नई प्रगति है। यह छांगचंग श्रृंखला वाहक रॉकेट की 351 उड़ान है। भारतीय मीडिया ने भी इसकी रिपोर्टिंग की। 17 नवंबर को छांगचंग श्रृंखला वाहक रॉकेट के फिर से प्रक्षेपण की तैयारी चीन के वनछांग अंतरिक्ष प्रक्षेपण स्थल में पूरी हुई, जिसे देर नवंबर में छांगअ नंबर पांच डिटेक्टर के साथ छोड़ा जाएगा।

हाल के वर्षों में चीन का अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी का स्तर लगातार उन्नत हो रहा है। सिर्फ पिछले साल चीन ने 34 प्रक्षेपण किये और सफलता से 78 उपग्रहों को अंतरिक्ष कक्षा में पहुंचाया। इसके साथ चीन की समानव अंतरिक्ष उड़ान परियोजना में भी उल्लेखनीय उपलब्धियां हासिल हुईं। अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी ने आर्थिक और सामाजिक विकास में नई उम्मीद जगाई। इससे चीन में तकनीकी नवाचार की प्रगति नजर आयी है।

इस साल चीन में 13वीं पंचवर्षीय योजना का अंतिम साल है। पिछले पांच सालों में चीन ने तकनीकी नवाचार में कई उपलब्धियां प्राप्त कीं। जैसा कि चीन ने पेईतो-3 ग्लोबल सैटेलाइट नेविगेशन सिस्टम औपचारिक रूप से खोला। पूरे देश में 6 लाख से अधिक 5जी बेस स्टेशनों का निर्माण पूरा किया जा चुका है। मुख्य और कुंजीभूत तकनीक में भी चीन ने सिलसिलेवार नई प्रगति हासिल की। चीन के हाई स्पीड रेल, 5जी मोबाइल संचार और तीसरी पीढ़ी की परमाणु शक्ति जैसी तकनीकें दुनिया में सबसे आगे दर्ज हुईं।

प्रौद्योगिकी दुनिया को बदल देती है और नवाचार जीवन को बेहतर बनाता है। आज दुनिया में बड़ा परिवर्तन हो रहा है, नए चरण के तकनीकी क्रांति और औद्योगिक परिवर्तन बढ़ रहा है। चीनी वैज्ञानिकों के प्रयास और मेहनत से चीन में प्रौद्योगिकी का स्तर काफी हद तक उन्नत हुआ है। एक जीवन-शक्ति से ओतप्रोत नवाचार चीन दुनिया के सामने खड़ा है।
(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)