punjab crime

घर में जबरदस्ती महिला का हो रहा था गर्भपात, पुलिस ने मौके पर पहुंच की कार्यवाई

गिद्दड़बाहाः  भारू चौंक में झुग्गी झौंपडियों के नजदीक स्थित एक घर में चल रहे गर्भपात संबधी समय रहते पता लगने पर पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की मदद से मौके पर पहुंच कर गर्भवती महिला को इलाज के लिए गिद्दड़बाहा के सिविल अस्पताल में भर्ती करवा कर आगली कार्रवाई शुरू कर दी गई है। 

प्राप्त जानकारी अनुसार उक्त भारू चौंक के समीप  स्थित एक मकान में गर्भपात किये जाने संबधी आसपास के लोगों को पता लगने पर उन्होंने 112 हैल्प लाईन नंबर पर फोन करके सूचित किया, जिस पर कार्रवाई करते हुए थाना गिद्दड़बाहा पुलिस और गिद्दड़बाहा के सिविल अस्पताल प्रशासन द्वारा मौके पर जाकर जब उक्त मकान में जाना चाहा तो उस मकान को ताला लगा हुआ था जबकि इस मकान की मालकिन सिमरजीत कौर उर्फ सीमा नामी महिला एक मोबाइल फोन की दुकान में बैठी थी। पुलिस मकान का ताला खुलवाने के बाद जब मकान में दाखिल हुई तो देखा कि मकान के भीतर एक कमरे में एक महिला का एक दाई द्वारा गर्भपात किया जा रहा था। जबकि इस दौरान उक्त गर्भवती महिला की माता भी मौके पर मौजूद थी जिस महिला का गर्भपात किया जा रहा था उसकी हालत भी काफी नाजुक नजर आ रही थी और वह खून से लथपथ थी जब कि उक्त कमरे में गर्भपात से संबधित दवाऐं और सामान मौजूद था। 

मौके पर मौजूद सिविल अस्पताल की महिला डाकटर रमिती द्वारा तुरंत गर्भवती महिला को एंबुलेंस द्वारा गिद्दड़बाहा के सिविल अस्पताल में पहुंचाया गया। इस दौरान डाक्टर रमिती ने बताया कि उक्त महिला करीब सात से साढे सात माह की गर्भवती है और उसके गर्भकाल संबधी पूछने पर महिला ने डाकटर को बताया था कि उसको गत दो तीन दिनों से खून पड रहा है। डाक्टर रमिती ने बताया कि प्राथमिक जांच में गर्भ में पल रहे बच्चे की धडकन  सुनाई नहीं दे रही थी और उसे बहुत ज्यादा बलीडिंग भी हो रही थी। उन्होंने बताया कि गर्भ में पल बच्चे के सही सलामत होने संबधी अल्ट्रासाउंड स्कैन के बाद ही पता लग सकता है और उसकी हालत काफी नाजुक होने के कारण महिला को बठिंडा रैफर किया जा रहा है। उधर मौके पर पहुंची थाना गिद्दडबाहा की एसएचओ रमनजीत कौर ने बताया कि उक्त मामले संबधी पुलिस द्वारा उक्त गर्भवती महिला गंगा बाई पत्नी स्वर्ण राम, इसकी माता कमलेश रानी पत्नी राम चंद, दाई अमरजीत कौर और सिमरजीत कौर उर्फ सीमा पत्नी बलवीर सिंह के विरुद्ध अलग-अलग धाराओं के अधीन मुकदमा दर्ज कर अगली कार्रवाई शुरू कर दी गई है।