ChinaNews

वांग यी:हांगकांग में राष्ट्रीय सुरक्षा बनाये रखने के हमारे अधिकारों का सम्मान करे ब्रिटेन

चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने 8 जून को ब्रिटिश विदेश मंत्री डोमिनिक राब के साथ फोन पर बातचीत की।  बातचीत में वांग यी ने कहा कि हांगकांग के मामले चीन के आंतरिक मामले हैं, जिनमें विदेशी हस्तक्षेप की अनुमति नहीं है। हांगकांग में राष्ट्रीय सुरक्षा बनाए रखना चीन के प्रमुख हितों से जुड़ा हुआ है और एक प्रमुख सैद्धांतिक मुद्दा है जिस पर कायम रहने की जरूरत है। राष्ट्रीय सुरक्षा केंद्रीय सत्ता की है, जो सभी देशों में एक आम बात है और चीन में इसका कोई अपवाद नहीं है। 

बुनियादी कानून के अनुच्छेद 23 के माध्यम से केंद्रीय सरकार ने हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र को राष्ट्रीय सुरक्षा बनाए रखने के लिए अपना स्वयं कानून बनाने का निर्देश दिया, जिससे राष्ट्रीय सुरक्षा के केंद्रीय प्राधिकरण की विशेषता नहीं बदली। हांगकांग की राष्ट्रीय सुरक्षा के वास्तविक नुकसान और गंभीर खतरों का सामना करने की स्थिति में चीनी राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि सभा(एनपीसी)ने निर्णायक रूप से कानून स्थापित कर हांगकांग में लागू किया, जिससे हांगकांग में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून की स्पष्ट और दीर्घकालिक कमियों को जल्द से जल्द भरने में मदद मिलेगी। यह बिलकुल उचित, वैध और जरूरी है।

वांग यी ने कहा कि चीन और ब्रिटेन संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य हैं और उन्हें अंतरराष्ट्रीय संबंधों के बुनियादी मानदंडों का पालन करने और अन्य देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करने पर एक उदाहरण स्थापित करना चाहिए। चीन-ब्रिटिश संबंधों के इतिहास को देखते हुए चीन ने कभी भी ब्रिटेन के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं किया। इसी प्रकार चीन को उम्मीद है कि ब्रिटेन चीन लोक गणराज्य के संविधान और संविधान के अनुसार बनाए गए बुनियादी कानून का सम्मान करेगा, चीन के अपनी भूमि पर राष्ट्रीय सुरक्षा बनाए रखने के वैध अधिकार का सम्मान करेगा, और केंद्रीय सरकार के एक देश दो व्यवस्था के सिद्धांत के तहत हांगकांग के प्रति प्रशासन का सम्मान करेगा। इस मुद्दे पर ब्रिटेन को सावधान रुख अपनाना चाहिये।  

डोमिनिक राब ने कहा कि ब्रिटेन चीन के साथ मजबूत द्विपक्षीय संबंधों का विकास करने में जुटा हुआ है। विश्वास है कि महामारी के बाद दोनों देशों के बीच सहयोग की व्यापक गुंजाइश होगी। और दोनों देश जलवायु परिवर्तन, ईरानी परमाणु मुद्दे जैसे प्रमुख अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर सहयोग को और मजबूत करेंगे। परिपक्व ब्रिटेन-चीन संबंधों के ढांचे के तहत दोनों पक्ष किसी भी मुद्दे पर ईमानदारी से विचारों का आदान-प्रदान कर सकते हैं। ब्रिटेन आज के आदान-प्रदान के विषय के बारे में ध्यान से सोचना और आपसी सम्मान की भावना से चीन के साथ संपर्क करना जारी रखना चाहता है।

( साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग )