भगवान हनुमान जी

आप भी करें आज भगवान हनुमान जी के ये कुछ सरल उपाय, होगा धन लाभ

मंगलवार का दिन भगवान हनुमान जी का दिन होता है। माना जाता है के इस भगवान हनुमान जी अपने भगतों पर कृपा करते है। इस दिन भगवान हनुमान जी की पूजा अर्चना करने से अभी दुःख दर्द और मुश्किलें दूर हो जाती है। माना जाता है के अगर सफलता आपके दरवाज़े से आकर वापिस चली जाती है तो भगवान हनुमान जी की पूजा आराधना से ये सारी मुश्किलें दूर हो जाती है। आज हम आपको कुछ उपाए के बारे में बताने जा रहे है। तो आइए जानते है :

- मंगलवार के दिन तांत्रिक हनुमान यंत्र की स्थापना करने का बड़ा महत्व है. मंगलवार को अपने पूजन स्थान पर करें तांत्रिक हनुमान यंत्र की स्थापना करें और हर दिन इस यंत्र की पूजा करें. जल्दी ही आपको इसका फल भी मिलने लगेगा.

- मंगलवार के दिन शाम के समय किसी हनुमान मंदिर में जाएं और एक सरसों के तेल का और एक शुद्ध घी का दीपक जलाएं. इसके बाद वहीं बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करें. हनुमानजी की कृपा पाने का ये एक अचूक उपाय है.

- मंगलवार के दिन सुबह स्नान आदि करने के बाद किसी पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दिया जलाएं. इसके बाद पूर्व दिशा की ओर मुख करके तुलसी की माला से राम नाम का जप करें. कम से कम 11 माला जप अवश्य करें.

- किसी भी मंगलवार को शाम के समय हनुमानजी को केवड़े का इत्र व गुलाब की माला चढ़ाएं. हनुमानजी को प्रसन्न करने का ये बहुत ही अचूक उपाय है. इस उपाय से हर मनोकामना पूरी हो जाती है.

- मंगलवार को पास ही स्थित हनुमानजी के किसी मंदिर में जाएं और उन्हें उन्हें सिंदूर व चमेली का तेल अर्पित करें और अपनी मनोकामना कहें. इससे हनुमानजी प्रसन्न होते हैं और भक्त की हर मनोकामना पूरी कर देते हैं.

- मंगलवार के दिन सुबह स्नान करने के बाद बड़ के पेड़ का एक पत्ता तोड़ें और इसे साफ स्वच्छ पानी से धो लें. अब इस पत्ते को कुछ देर हनुमानजी के सामने रखें और इसके बाद इस पर केसर से श्रीराम लिखें. अब इस पत्ते को अपने पर्स में रख लें. साल भर आपका पर्स पैसों से भरा रहेगा.

- अगर आप शनि दोष से पीडि़त हैं तो इस दिन काली उड़द व कोयले की एक पोटली बनाएं. इसमें एक रुपए का सिक्का रखें. इसके बाद इस पोटली को अपने ऊपर से उसार कर किसी नदी में प्रवाहित कर दें और फिर किसी हनुमान मंदिर में जाकर राम नाम का जप करें इससे शनि दोष का प्रभाव कम हो जाएगा.





Live TV

Breaking News

Loading ...