SGPC के Harjinder Singh Dhami ने डेरा सिरसा प्रमुख Gurmeet Ram Rahim को पैरोल दिए जाने का किया विरोध, कहा- यह फैसला हरियाणा सरकार का दोहरा मापदंड

Spread the News

अमृतसर : शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) के अध्यक्ष एडवोकेट हरजिंदर सिंह धामी ने डेरा सिरसा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को हरियाणा सरकार द्वारा दी गई एक महीने की पैरोल पर आज कड़ी आपत्ति जताते हुए कहा कि यह फैसला सरकार का दोहरा मापदंड है। उन्होंने कहा कि एक तरफ सरकारें सिख कैदियों को सजा काटने के बाद भी रिहा नहीं कर रही हैं, वहीं दूसरी तरफ रेप और हत्या जैसे गंभीर आरोप में सजा काट रहे डेरा सिरसा प्रमुख को बार-बार जेल से रिहा किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि गुरु नानक देव जी की 550वीं जयंती के अवसर पर केंद्र सरकार ने सिख कैदियों को रिहा करने की घोषणा की थी, लेकिन सरकार की द्वेष के कारण इसे पूरा नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि सिख संगठनों द्वारा बार-बार उठाए गए मुद्दे का सरकार कोई सार्थक जवाब नहीं दे रही है। उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि हरियाणा और केंद्र की भाजपा सरकार मिलकर राजनीतिक खेल खेल रही है।

उन्होंने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार ने राजनीतिक लाभ के उद्देश्य से पहले ही चुनावों के दौरान फरलो दे दी थी और अब संगरूर चुनाव के दौरान फायदा उठाने के लिए राम रहीम को फिर से पैरोल दे दी, जो पूरी तरह से गलत था। उन्होंने कहा कि सरकारों द्वारा राम रहीम को दिया गया संरक्षण का कड़ा विरोध किया जाएगा।