सोमवार का व्रत करते के दौरान ना करें ये कुछ गलतियां, हो सकता है नुकसान

Spread the News

भगवान शिव को प्रसन्न करने और उनका आशीर्वाद पाने के लिए सोमवार का व्रत करना सबसे सरल और सबसे अच्छा उपाय माना जाता है। इस व्रत को करने से व्यक्ति अपना मन चाहा फल पा सकता है। सोनवार का व्रत करने से अपने बहुत से दुःख भी दूर होते है और आप पर भगवान शिव जी की कृपा भी बनी रहती है। लेकिन क्या आप जानते है के इस व्रत को करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद आवश्यक होता है। अगर हम व्रत के दौरान ये कुछ गलतिया करते है तो हमें इसका लाभ नहीं मिल पाता। आइए जानते है:

सोमवार व्रत के नियम
जो भक्त सोमवार के दिन भगवान शिव का व्रत रखते हैं, उन्हें सुबह जल्दी उठकर स्नान करके साफ वस्त्र धारण करना चाहिए. उसके बाद मंदिर में जाकर शिवलिंग का जल से अभिषेक करना चाहिए. जलाभिषेक के बाद भगवान शिव और माता पार्वती की श्रद्धा भाव से पूजा अर्चना करें और व्रत कथा अवश्य सुनें. सनातन धर्म में शास्त्रों के अनुसार सोमवार के व्रत में तीन पहर में एक ही समय भोजन करने का उल्लेख मिलता है. इस व्रत में आप फलाहार भी ले सकते हैं.

भगवान शिव की पूजा में न करें ये ग​लतियां
-भगवान शिव को समर्पित सोमवार के दिन व्रत रखते समय कुछ बातों का ध्यान रखना ज़रूरी है.
-भगवान शिव की पूजा में हम सभी जल मिले दूध से अभिषेक करते हैं. इस बात का विशेष ध्यान रखें ध्यान रखें कि दूध से अभिषेक करते समय तांबे के कलश का इस्तेमाल ना करें. तांबे के पात्र में दूध डालने से दूध संक्रमित होता हो जाता है और चढ़ाने योग्य नहीं रह जाता.

-पूजा के दौरान शिवलिंग पर दूध, दही, शहद या कोई भी वस्तु चढ़ाने के बाद जल ज़रूर चढ़ाएं. अंत में जल चढ़ाने से ही जलाभिषेक पूर्ण माना जाता है.
-धार्मिक शास्त्रों के अनुसार, शिवलिंग पर हमेशा चंदन का तिलक लगाएं. कभी भी रोली और सिंदूर का तिलक नहीं लगाना चाहिए.
-इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि भगवान शिव के मंदिर में शिवलिंग की कभी भी पूरी परिक्रमा ना करें. जिस जगह से दूध बहता है वहां रुक जाएं और वापस घूम जाएं.