वास्तु शास्त्र के अनुसार जानिए कहां रखें घर की पुरानी झाड़ू

Spread the News

हिन्दू धर्म के अनुसार वास्तु शास्त्र हमारे जीवन में बहुत अधिक महत्व रखता है। इससे जुड़ी बहुत सी ऐसी चीज़े है अगर हम वह गलत करते है तो हमें अपने जीवन में परेशानियो का सामना करना पढ़ता है। आज हम आपको बताने जा रहे है वास्तु शास्त्र के अनुसार हमें अपने घर इस्तेमाल किया गया पुराना झाड़ू कहा रखना चाहिए। अक्सर घरों में ऐसा होता है जब हम नया झाड़ू इस्तेमाल में लेट है तो पुराने को भी घर में ही रख लेते है जिससे के चलते हम उसका भी कभी कभी इस्तेमाल करते है। लेकिन क्या आप जानते है के इससे भी हमें बहुत सारि परेशानियो का सामना करना पढ़ सकता है। तो आइए जानते है वास्तु शास्त्र के अनुसार कहा रखें पुराना झाड़ू।

पुरानी झाड़ू का क्या करें?
यदि आपके घर की झाड़ू पुरानी हो चुकी है और वो टूट चुकी है तो उसे घर से तुरंत हटा देना चाहिए. क्योंकि पुरानी झाड़ू घर में नकारात्मक ऊर्जा लाती है. टूटी झाड़ू का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए क्योंकि यह घर में परेशानियां बढ़ाने का काम करती है.

किस दिन और कहां फेंके पुरानी झाड़ू?
यदि आप भी जानना चाहते हैं कि पुरानी या टूटी झाड़ू को घर से कब बाहर निकाला जाए तो इसके लिए सबसे उपयुक्त दिन शनिवार और अमावस्या का माना जाता है. इसके अलावा आप ग्रहण के बाद और होलिका दहन के बाद भी टूटी और पुरानी झाड़ू घर से बाहर निकाल सकते हैं. ऐसा करने से घर की नकारात्मक ऊर्जा झाड़ू के साथ बाहर हो जाती है और घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार बढ़ जाता है.

झाड़ू कहां फेंके और कहां नहीं?
अपने घर की पुरानी और टूटी झाड़ू देखने के लिए ऐसी जगह का चुनाव करें जहां उसके ऊपर कोई पैर ना रखें. झाड़ू को नाले या किसी पेड़ के पास भूल कर भी ना फेंके. झाड़ू को जलाना भी नहीं चाहिए.

किस दिन ना फेंके झाड़ू?
गुरुवार, शुक्रवार और एकादशी के दिन झाड़ू को घर से बाहर ना फेंके. ऐसा करने से माता लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं और घर में आर्थिक तंगी शुरू हो जाती है.