Moga Firing की घटना: दो साथियों के साथ पकड़े गए आरोपी ने किया खुलासा, हथियार का लाइसेंस लेने के लिए रची थी कहानी

Spread the News

बांबिहा भाई गांव के एक व्यक्ति द्वारा रिपोर्ट की गई गोलीबारी की घटना का दावा है कि कुछ अज्ञात व्यक्तियों ने सोमवार सुबह उसके घर पर गोलियां चलाईं, हथियार लाइसेंस प्राप्त करने के लिए उसके द्वारा गढ़ी गई कहानी निकली। मोगा जिला पुलिस ने दो दिन के भीतर मामले की गुत्थी सुलझाते हुए शिकायतकर्ता तरलोचन सिंह निवासी ग्राम बंबिहा भाई को गिरफ्तार कर लिया है और उसके दो साथियों की पहचान फरीदकोट के बरगारी निवासी कुलविंदर सिंह उर्फ ​​किंडा और गांव चीड़ा के सुखवंत सिंह उर्फ ​​फौजी के रूप में हुई है।

पुलिस ने जिला फरीदकोट के ग्राम चन्नियां निवासी जगमीत सिंह उर्फ ​​जगमिता के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से एक .315 बोर की देसी पिस्तौल, दो जिंदा कारतूस, एक .32 बोर की रिवॉल्वर, सात जिंदा कारतूस, चार मोबाइल फोन और एक पेनड्राइव बरामद किया है। जानकारी के अनुसार तरलोचन सिंह ने सोमवार को पुलिस को सूचना दी थी कि कुछ दिन पहले गैंगस्टरों ने उन्हें फिरौती के लिए धमकी दी थी और आज सुबह करीब 4 बजे अज्ञात लोगों ने उनके घर पर फायरिंग कर दी।

फरीदकोट पुलिस महानिरीक्षक (आईजीपी) पीके यादव ने कहा कि पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 336, 506 और 34 और शस्त्र अधिनियम की धारा 25 और 27 के तहत एफआईआर न. 65 दिनांक 20.06.2022 दर्ज की गई थी। जांच के दौरान जब सीसीटीवी की जाँच की गई तो घटना के बारे में संदेह पैदा हुआ, जिसके कारण वादी तरलोचन सिंह से पूछताछ हुई, जिसने बाद में खुलासा किया कि उसे कुछ दिन पहले एक व्हाट्सएप कॉल के माध्यम से गैंगस्टरों से फिरौती की धमकी मिली थी। उन्होंने अपने नाम से शस्त्र लाइसेंस के लिए आवेदन किया था, जिसे मंजूरी नहीं मिली।

उन्होंने कहा कि बाद में तरलोचन ने एक कहानी गढ़ी और अपने आग्नेयास्त्रों का लाइसेंस प्राप्त करने के लिए अपने ही घर पर आग लगाने के लिए हथियार खरीदे और सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड के कारण जानबूझकर मीडिया में गोल्डी बरार का नाम लिया। एसएसपी मोगा गुलनीत सिंह खुराना ने बताया कि तरलोचन ने गांव बरगड़ी के अपने दोस्त कुलविंदर सिंह उर्फ ​​किंडा से 32 बोर का लाइसेंसी रिवाल्वर और गांव चीड़ा के सुखवंत सिंह उर्फ ​​फौजी से 315 बोर की देसी पिस्टल खरीदी थी। गौरतलब है कि सुखवंत सिंह उर्फ ​​फौजी यह हथियार जगमीत सिंह उर्फ ​​जगमिता के पास से लाया था। आईजीपी ने कहा कि इस मामले में आगे की जांच जारी है।