J&K: इस वर्ष अमरनाथ यात्रा को आतंकियों से ज्यादा खतरा! सेना ने कहा- यात्रा के लिए की जा रही अभूतपूर्व सुरक्षा व्यवस्था

Spread the News

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर में कुछ दिनों बाद अमरनाथ यात्रा शुरू होने वाली है। सेना ने शनिवार को कहा कि पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष वार्षिक तीर्थयात्रा के लिए ज्यादा खतरा बना हुआ है। गौरतलब है कि 43 दिवसीय अमरनाथ यात्रा 30 जून से शुरू होने जा रही है। सेना के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सुगम तीर्थ यात्रा के लिए इस समय और अधिक सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है। अधिकारी ने कहा, ‘इस साल खतरे की आशंका बढ़ गई है। हम आम तौर पर हर साल वार्षिक अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने वाले आतंकवादियों के बारे में इनपुट मिलते है, लेकिन इस वर्ष इस प्रकार के ज्यादा इनपुट्स मिल रहे हैं। इस साल खतरे की आशंका बढ़ गई है।’ उल्लेखनीय है कि कोरोना महामारी के कारण दो साल के लंबे अंतराल के बाद इस बार अमरनाथ यात्रा का आयोजन हो रहा है।

अमरनाथ यात्रा से पहले अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर व्यापक तलाशी अभियान

सुरक्षा बलों ने शनिवार को जम्मू-कश्मीर में अंतर्राष्ट्रीय सीमा से लगे इलाकों में सीमा पार सुरंगों का पता लगाने और अमरनाथ यात्रा के दौरान आतंकवादियों द्वारा घुसपैठ के किसी भी प्रयास को नाकाम करने के लिए बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान चलाया। अधिकारियों ने बताया कि पुलिस, सी.आर.पी.एफ. और बी.एस.एफ. ने सांबा, कठुआ और जम्मू के जिलों के सीमावर्ती गांवों में संयुक्त रूप से तलाशी अभियान चलाया। सांबा के पुलिस उपाधीक्षक (अभियान) जी.आर. भारद्वाज ने कहा, विभिन्न खुफिया सूचनाओं से पता चलता है कि आतंकवादी यात्रा को बाधित करने के लिए सीमा पार से घुसपैठ करने की साजिश रच रहे हैं। संयुक्त तलाशी अभियान का नेतृत्व कर रहे भारद्वाज ने कहा कि सुचेतगढ़ सीमा से रीगल तक लगभग 8 किलोमीटर के क्षेत्र में संयुक्त बलों द्वारा किसी भी संभावित सीमा पार सुरंग का पता लगाने पर ध्यान केंद्रित किया गया। संभव है कि घुसपैठ के लिए आतंकवादियों द्वारा सीमा पार से सुरंग खोदी गई हो। उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों ने अभियान के दौरान आम तौर पर इस्तेमाल नहीं होने वाले सभी इलाकों में तलाशी ली, जो आगामी यात्रा के लिए किए गए अभूतपूर्व सुरक्षा इंतजाम का हिस्सा है। अधिकारियों ने कहा कि जम्मू जिले के आर.एस. पुरा सैक्टर और कठुआ जिले के हीरानगर सैक्टर में भी किसी भी संदिग्ध गतिविधि पर नजर रखने के लिए तलाशी ली गई।