Punjab Budget 2022: स्वास्थ्य के लिए रखा गया 4731 करोड़ का बजट, 15 अगस्त से होगी 75 मोहल्ला क्लीनिक को मिलेगी हरी झंडी, फरिश्ते योजना की भी होगी शुरुआत

Spread the News

चंडीगढ़ः पंजाब की भगवंत मान सरकार आज अपना पहला बजट पेश किया। इस पेपरलेस बजट में हरपाल चीमा ने शिक्षा के साथ स्वास्थ्य में कई बड़े एलान किए। स्वास्थ्य के लिए 4731 करोड़ रुपये का बजट रखा गया है। हरपाल चीमा ने कहा कि अच्छी सेहत सबसे तो बड़ी दौलत है। किसी भी राष्ट्र का स्वास्थ्य उसके नागरिकों द्वारा समान, सस्ती और जवाबदेह स्वास्थ्य सेवा प्रणाली की पहुंच पर निर्भर करता है। यह एक सर्वविदित तथ्य है कि जेब से अधिक खर्च लोगों को गरीबी में धकेल रहा है।

वित्त मंत्री ने कहा कि मैं पंजाब के लोगों को आश्वस्त करना चाहता हूँ कि इस बजट में इस सबसे जरूरी लेकिन बेहद उपेक्षित सेक्टर यानी हेल्थ सेक्टर को सर्वोच्च प्राथमिकता दी गई है। हमारी सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि पंजाब में कोई भी बुनियादी स्वास्थ्य सुविधाओं से वंचित न रहे और वित्तीय संसाधनों की कमी के कारण उसका इलाज न हो पाए। स्वास्थ्य के क्षेत्र में राज्य के लोगों के लिए की जाने वाली योजनाओं और पहलकदमियों का एक मजबूत रोडमैप तैयार कर रहा हूं। मुझे 4731 करोड़ रुपए के प्रावधान के साथ स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए उच्चतम बजट का प्रस्ताव करते हुए खुशी हो रही है, जो कि वित्तीय वर्ष 2021-22 की तुलना में 23.80% की वृद्धि है।

15 अगस्त से 75 मोहल्ला क्लीनिक की होगी शुरुआत

वित्त मंत्री हरपाल चीमा ने कहा कि हमारी सरकार पंजाब के लोगों को भौगोलिक, लिंग, वर्ग, जाति, आयु, धर्म या किसी अन्य प्रकार के भेदभाव के बिना स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं की “अंतिम मील डिलीवरी” प्रदान करने में विश्वास करती है। पंजाब की सदूर इलाकों में चिकित्सा देखभाल का विस्तार करने के लिए हमारी दृढ़ प्रतिबद्धता है ताकि नागरिक स्वयं को सम्मानजनक जीवन जीने की बुनियादी आवश्यकताओं के हकदार महसूस करें। यह सरकार सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं को निम्नतम स्तर तक विकेंद्रीकृत करने के लिए “मोहल्ला/पिंड क्लीनिक” स्थापित करने का प्रस्ताव रखती है। इस वर्ष सरकार 117 मोहल्ला क्लीनिक स्थापित करने की योजना बना रही है जिसके लिए 77 करोड़ रुपए का प्रारंभिक आवंटन प्रस्तावित किया जा रहा है। मैं इस अवसर पर यह घोषणा करता हूँ कि इनमें से 75 मोहल्ला क्लीनिक 15 अगस्त, 2022 तक चालू हो जाएंगे।

फरिश्ते योजना की होगी शुरुआत- हरपाल चीमा

वित्तमंत्री हरपाल चीमा ने कहा कि समय पर चिकित्सा सहायता न मिलने के कारण सड़क दुर्घटना में हताहत होना एक खेदजनक अनुभव है। ‘आप’ सरकार इस मुद्दे के प्रति बेहद संवेदनशील है और यह सुनिश्चित करने का प्रयास करेगी कि सड़क दुर्घटना से पीड़ित हर व्यक्ति की जान बच सके। इसके लिए नई दिल्ली में फरिश्ते योजना की तर्ज पर पंजाब में एक योजना शुरू की जाएगी, जिसके तहत कोई भी व्यक्ति सड़क दुर्घटना के शिकार लोगों को ले जा सकता है और उन्हें किसी भी अस्पताल में भर्ती करा सकता है। सड़क हादसों के पीड़ितों का मुफ्त इलाज किया जाएगा और सारा खर्च पंजाब सरकार वहन करेगी और सहायता करने वाले व्यक्ति को भी सम्मानित किया जाएगा।

एस्टेट मैनेजमेंट युनिट (ई.एम.यू) की होगी स्थापना: हरपाल चीमा

हरपाल चीमा ने आगे कहा कि सर्वोत्तम इन-हाउस स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने के लिए बुनियादी ढांचे का निर्माण एक महत्वपूर्ण आवश्यकता है। हालांकि, इस तरह के बुनियादी डांचे के निर्माणकर्ताओं और संचालकों के बीच तालमेल न होने के कारण, इन सुविधाओं की निरंतरता और रखरखाव की अक्सर अनदेखी की जाती है। सरकार एस्टेट मैनेजमैंट युनिट (ई.एम.यू) स्थापित करने का प्रस्ताव रखती है जो विशेष रूप से अस्पतालों/स्वास्थ्य सुविधाओं की बुनियादी उप-संरचना की जरूरतों के रखरखाव और संभाल पर ध्यान देगी और समयबद्ध तरीके से ऐसी गड़बड़ियों को दूर करेगी। इकाई शुरू में राज्य सरकार द्वारा संचालित की जाएगी और बाद में इसे ऐसी सुविधाओं के पेशेवर प्रबंधन में शामिल किसी विशेष एजेंसी को सौंप दिया जाएगा।

विभिन्न मौजूदा स्वास्थ्य योजनाओं जैसे ट्रॉमा सेंटरों की स्थापना, आयुष, आयुष्मान भारत-सरबत सेहत बीमा योजना, कैंसर राहत कोष योजना, कैंसर उपचार बुनियादी ढांचे का निर्माण और इस महत्वपूर्ण स्वास्थ्य क्षेत्र में कमियों को दूर करने के लिए आपातकालीन प्रतिक्रिया सेवा के अलावा अन्य में पर्याप्त आवंटन का प्रस्ताव किया जा रहा है। आने वाले दो वर्षों में हमारी सरकार दो सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल स्थापित करेगी, एक पटियाला में और दूसरा फरीदकोट में। इसी तरह 2027 तक तीन और सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल खोले जाएंगे।