Mandi में CM Jai Ram Thakur ने किया प्रदेश की दूसरी University का शुभारंभ

Spread the News

मंडी : हिमाचल प्रदेश के गठन के 52 वषों के बाद आज प्रदेश को दूसरी यूनिवर्सिटी की सौगात मिली है। सीएम जयराम ठाकुर ने मंडी में प्रदेश की दूसरी यूनिवर्सिटी का विधिवत रूप से शुभारंभ किया। इस यूनिवर्सिटी को सरदार पटेल यूनिवर्सिटी के नाम से जाना जाएगा और 5 जिलों के 140 कालेज इसके अधीन होंगे। इनमें मंडी, कुल्लू, लाहौल स्पिति, चम्बा और कागड़ा जिला के सभी सरकारी और नीजि कालेज शामिल हैं। सीएम जयराम ठाकुर ने यूनिवर्सिटी के विधिवत शुभारंभ पर सभी को बधाई दी। उन्होंने कहा कि यह हम सब के लिए एक ऐतिहासिक दिन है, उन्होंने कहा कि करीब 52 सालों के बाद प्रदेश में दूसरी यूनिवर्सिटी खुली है। 22 जून 1970 को हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी की स्थापना हुई थी।

उन्होंने कहा कि मंडी जिला के लिए बड़ी सौगात है। जयराम ठाकुर ने कहा कि वे स्वयं प्रदेश के सबसे पुराने और दूसरे सबसे बड़े कालेज में पढ़े हैं। यह उनके जीवन का सबसे अच्छा समय था। उन्होंने कहा कि पहले मंडी में क्लस्टर यूनिवर्सिटी चल रही थी, लेकिन अब सरकार ने इसे एक संपूर्ण यूनिवर्सिटी के रूप में संचालित करने का निर्णय लिया है। मंडी का वल्लभ कालेज शिमला यूनिवर्सिटी के बाद दूसरा ऐसा संस्थान है जहां पर बच्चों की संख्या सबसे ज्यादा है। आज भी यहां 6700 बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि जब वे इस कालेज में पढ़ते थे तो उस वक्त भी 4500 बच्चे यहां शिक्षा ग्रहण करते थे। इसी बात को ध्यान में रखते हुए सरकार ने यहां पर संपूर्ण यूनिवर्सिटी को खोलने की सोची और आज से इसे विधिवत रूप से शुरू कर दिया गया है।

उन्होंने कहा कि वल्लभ कालेज का पूर्व छात्र होने के नाते आज में गौरवान्वित महसुस कर रहा हूं। कुछ ऋण उन पर है उसे चुकता करना है। जयराम ठाकुर ने बताया कि मंडी स्थित सरदार पटेल यूनिवर्सिटी जुलाई से शुरू होने वाले शैक्षणिक सत्र से अपना कार्य शुरू कर देगी। यूनिवर्सिटी के कैंपस के लिए कुछ स्थानों पर जगह का चयन किया गया है लेकिन द्रंग विधानसभा क्षेत्र के तहत बाने वाले बासाधार में अधिक जमीन उपलब्ध होने के कारण, कैंपस को वहां पर बनाने पर विचार किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अभी वल्लभ कालेज परिसर में स्थित क्लस्टर यूनिवर्सिटी के भवन से इसका संचालन होगा और यहां पर 27 करोड़ की लागत से एक अन्य भवन का निर्माण भी किया जा रहा है। प्रिफे स्टर के इस भवन का निर्माण कार्य सितंबर माह तक पूरा हो जाएगा।

मुख्यमंत्री ने सरकारी स्कूलों के नतीजों पर खुशी का हजहार करते हुए कहा कि सरकारी स्कूलों के बच्चे साधन व सुविधा की कमी के बावजूद बेहतर परिणाम दे रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मंडी छोटीकाशि के नाम से मशहूर है अब यहां पर शिवधाम भी जमीन पर खड़ा हो रहा है, 50 करोड़ की लागत से बनने वाला प्रथम चरण सितंबर माह में पूरा हो जाएगा तथा सौ करोड़ के दूसरे चरण का कार्य सितंबर में शुरू हो जाएगा। उन्होंने कहा कि तीन चरणों में बनने वाल वाला शिवधाम धर्मिक पर्यटन का केंद्र बनेगा। इस मौके पर शिक्षा मंत्री गोबिंद सिंह ठाकुर, जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर, जिला के सभी विधायक, यूनिवर्सिटी के वायस चांसलर डा. देवदत्त शर्मा, प्रोवायस चांसलर अनुपमा सिंह व अन्य अधिकारी, प्रशासनिक अधिकारी और भाजपा नेता मौजूद रहे।

हर हाल में बनेगा मंडी का एयरपोर्ट

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि एयरपोर्ट को लेकर विपक्ष के लोग बड़ी-बड़ी बातें कर रहे हैं। लेकिन मैं बस इतना ही कहना चाहता हूं कि एयरपोर्ट हर हाल में बनकर रहेगा। इसकी तकनीकी प्रक्रिया कुछ हद तक पूरी हो चुकी है, अब एयरपोर्ट अथारिटी के साथ ए कंपनी की ओर से सोशल इंपैक्ट का सर्वे किया जाना है। इसके बाद भूमि अधिग्रहण की कार्रवाई शुरू होगी, एक बार भूमि अधिग्रहण हो गया तो उसके बाद एयरपोर्ट का कार्य नहीं रूकेगा।