सरकारी खजाने से 780 करोड़ रुपये खर्च कर Rajasthan जाने वाली नहरों को पक्का करना पंजाब सरकार का गलत फैसला : Karnail Singh Peermohammad

Spread the News

अमृतसर : शिरोमणि अकाली दल के महासचिव एवं प्रवक्ता करनैल सिंह पीरमोहम्मद ने कहा कि आज जब पंजाब में पानी का मुद्दा एक बार फिर उग्र हो रहा है और पंजाब के युवा भी इस गंभीर मुद्दे पर ध्यान दे रहे हैं। पंजाब की सत्तारूढ़ आप सरकार का बजट सत्र जिसने न केवल पंजाबियों के साथ विश्वासघात किया है बल्कि देशद्रोह भी किया है। दरअसल, आप सरकार ने अपने बजट सत्र में राजस्थान को पानी की आपूर्ति करने वाली दो नहरों को पक्का करने का फैसला किया है और नहरों को पक्का करने के लिए बजट में 780 करोड़ रुपये अलग रखे हैं।

इतिहास के पन्नों पर नजर डालें तो 1947 से पहले बीकानेर फीडर नहर फरीदकोट से राजस्थान में पानी ले जाती थी। लेकिन उस समय यह समीकरण नहीं था। इसके अलावा, उस समय के राजा द्वारा पानी के बदले पैसे दिए जाते थे। लेकिन 1947 के बाद जब राष्ट्रीयकरण के नाम पर राज्यों का बंटवारा हुआ तो उसके बाद भी पानी बहता रहा, लेकिन बदले में मिलने वाला पैसा बंद हो गया। इसका मतलब है कि राजस्थान को मुफ्त में पानी मिलता रहा। रिपेरियन कानून के मुताबिक इस पानी पर पंजाब का अधिकार है और इसके बदले में वह राजस्थान से पैसे ले सकता है। राजस्थान में आज तक 12,000 क्यूसेक पानी असंवैधानिक तरीके से जा रहा है जिसके लिए राजस्थान सरकार पंजाब को कोई पैसा नहीं देती है।

करनैल सिंह पीरमोहम्मद ने कहा कि आप सरकार ने अब पंजाब से यह पैसा लेने के बजाय राजस्थान तक पानी पहुंचाने वाली नहरों को पक्का करने का भी ऐलान किया है। न केवल इसकी घोषणा की बल्कि इस परियोजना को शुरू करने के लिए 780 करोड़ रुपये भी निर्धारित किए हैं। अगर ऐसा होता है तो 18,000 क्यूसेक पानी पंजाब से राजस्थान की ओर बहेगा। उन्होंने कहा कि ऐसा करने से नहर के किनारे लगे पेड़ सूखने लगे हैं।