हमें अपनी हद पता, वह अपने बारे में सोचें : Jai Ram Thakur

Spread the News

शिमला : चुनावी समर की घोषणा से पहले मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री के बीच शुरू हुई जुबानी जंग थमने का नाम नहीं ले रही है। दोनों नेताओं ने चुनावी साल में हमलावर तेवर अपनाए हुए हैं। मीडिया के सामने आए मुख्यमंत्री ने नेता प्रतिपक्ष की तरफ से की जा रही बयानबाजी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि हमें अपनी हद पता है, वह अपने बारे में सोचे। हालांकि उन्होंने इस बारे में अधिक ज्यादा कुछ नहीं कहा।

कोटखाई के बहुचर्चित गुड़िया प्रकरण को लेकर आए पीसीसी चीफ प्रतिभा सिंह के बयान को मुख्यमंत्री ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि गुड़िया हत्याकांड प्रदेश ही नहीं देश में बड़ा मुद्दा बना था तथा उस बात को छोटा कहना दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि भविष्य में इस तरह की घटनाएं घटित न हो, इसके लिए पुलिस बल को अधिक सशक्त करने के अलावा मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाई जा रही है।

उदयपुर में घटित हुई घटना निंदनीय

जयराम ठाकुर ने राजस्थान के उदयपुर में एक निदरेश व्यक्ति की निर्मम हत्या की घटना की निंदा की है और राजस्थान सरकार से इस मामले में कड़ी कार्रवाई करने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों की हिमत और हौसले इस कद्र बढ़ गए हैं कि सारी हैवानियत की हदें पार कर ली गई है। ऐसे मामलों पर सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।

नेता प्रतिपक्ष विकास की राजनीति करें: पठानिया

वन मंत्री राकेश पठानिया ने नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री को विकास की राजनीति करने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक अस्थिरता के कारण नेता प्रतिपक्ष बौखालाहट में है। उन्होंने पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में कहा कि 4 राज्यों के बाद हिमाचल प्रदेश में भी भाजपा की सरकार बनेगी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने कभी भी नेता प्रतिपक्ष के परिवार पर कोई बयान नहीं दिया है। ऐसे में नेता प्रतिपक्ष किस आधार पर ओकओवर को खाली करने की बात कर रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि नेता प्रतिपक्ष ने राजनीति में विरोध करने के स्तर को गिराया है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र सरकार में भी कांग्रेस की छोटी सी भूमिका थी, जो अब मुक्ति के कगार पर पहुंच गई है।