States Startup Ranking 2021 : टॉप 5 राज्यों में जगह बनाने में नाकाम हुआ Himachal

Spread the News

शिमला : ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में देश के पर्वतीय राज्यों में अव्वल हिमाचल स्टार्टअप रैंकिंग देश के टॉप 5 राज्यों में भी जगह बनाने में नाकाम रहा है। साल 2021 की स्टार्टअप रैंकिंग में हिमाचल चौथी श्रेणी में एस्पायरिंग लीडर रहा है। स्टार्टअप रैंकिंग में केंद्र शासित राज्यों के साथ साथ देश के 24 राज्यों ने हिस्सा लिया। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में हिमाचल से पिछड़ने वाला पड़ोसी राज्य उत्तराखंड स्टार्टअप रैंकिंग में देश के 5 टॉप राज्यों में शुमार है। स्टार्टअप रैंकिंग राज्यों को 5 श्रेणियों में विभाजित किया गया था। हिमाचल पांच श्रेणियों में चौथी श्रेणी में एस्पायरिंग लीडर रहा। हिमाचल के साथ-साथ मध्य प्रदेश सहित देश के 11 राज्य इस श्रेणी में शामिल हैं। इन सभी राज्यों को बी श्रेणी में रखा गया है।

देश की राजधानी दिल्ली में आज ही 2021 की स्टार्टअप रैंकिंग जारी की गई है। नई दिल्ली में आयोजित स्टार्टअप रैंकिंग के लिए आयोजित कार्यक्रम में संयुक्त निदेशक दीपिका खत्री शामिल हुईं। केंद्र सरकार की ओर से हिमाचल प्रदेश को एक मजबूत आधार विकसित करने में आकांक्षी नेतृत्व राज्य (एस्पायरिंग लीडर) के रूप में मान्यता दी गई है। राज्य में स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र है।

एक मजबूत निर्माण के लिए की गई निम्न पहलों के लिए राज्य की सराहना की गई। पारिस्थितिकी तंत्र के तहत एक व्यापक और समावेशी स्टार्टअप नीति बनाना, स्टार्टअप के लिए आसान सार्वजनिक खरीद मानदंडों की रूपरेखा, हिम स्टार्टअप योजना का शुभारंभ, एक उद्यम निधिए नए उद्यमियों को बढ़ावा देने और प्रोत्साहित करने के लिए दस करोड़ बजट आवंटित किया गया है।

एक वर्ष पहले हुआ करते थे 8 इंक्यूवेशन केंद्र

एक वर्ष पहले तक स्टार्टअप के लिए 8 इंक्यूवेशन केंद्र हुआ करते थे, जिनमें अधिक स्टार्टअप प्रस्तावों को जगह नहीं मिलती थी। युवाओं को इंक्यूवेशन केंद्र उपलब्ध करवाने के लिए संख्या को बढ़ाकर 12 कर दिया गया।

2016 में हुई स्टार्टअप की शुरुआत

प्रदेश में स्टार्टअप की शुरुआत 2016 में हुई। वर्तमान में राज्य में 261 स्टार्टअप इक्यूवेट हुए। इनमें से 108 स्टार्टअप ने अपना आधार बना लिया है। डेढ़ सौ से अधिक स्टार्टअप इंक्यूवेशन केंद्रों में प्रस्तावित प्रक्रिया से गुजर रहे हैं। प्रत्येक स्टार्टअप को एक वर्ष की अवधि के दौरान तीन लाख रुपये स्थायी भत्ता दिया जा रहा है। इसके साथ साथ सरकार सीड मनी के तौर पर 50 लाख की रकम भी प्रदान कर रही है।

कार्यक्रम में मुख्य सचिव सहित ये अधिकारी हुए सम्मानित

कार्यक्रम में आकांक्षी नेतृत्व राज्य की श्रेणी में आने के लिए मुख्य सचिव राम सुभाग सिंह को उपलब्धि प्रमाण पत्र दिया गया। उद्योग विभाग के निदेशक राकेश कुमार प्रजापति को स्टार्टअप को पंजीकृत करना और स्टार्टअप के लिए इंक्यूबेटरों को धन उपलब्ध कराने के लिए हिम स्टार्टअप योजना की शुरुआत करने के लिए प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया गया। उद्योग विभाग की संयुक्त निदेशक दीपिका खत्री को प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया।