कपास की फसल पर ‘गुलाबी सुंडी’ का हमला, किसानों ने सरकार से मुआवजे की मांग की

Spread the News

मनसा : यह शहर ‘कपास की पट्टी’ के रूप में जाना एवं माना जाता है। पहाड़ियों पर खराब भूजल और नहर के पानी के कारण कपास की फसल अधिक होती है। बता दें कि अभी किसान आर्थिक स्थिति से बाहर नहीं निकले कि कपास पर एक बार फिर गुलाबी सुंडी ने हमला बोल दिया है, जिससे कपास की फसल को काफी नुक्सान हुआ है।

आज गुरविंदर सिंह पुत्र जीता सिंह भलाईके के किसान ने अपनी कपास की नुक्सान की भरपाई के लिए और गांव के अन्य किसान, जिन्होंने अपनी कपास की फसल बोई है तथा किसान संघ के सचिव ने सरकार से मुआवजे की मांग की है। उन्होंने आगे कहा कि गुलाबी सुंडी के समाधान के लिए जिला प्रशासन और सरकार को इस ओर ध्यान देना चाहिए।