‘सात के फेरे’ में फंसा है India, टीम इंडिया को इस बार कुछ अलग करना होगा

Spread the News

भारतीय टीम इस साल विदेश में 3 टेस्ट मैच खेली और हर बार एक ही तरीके से उसे हार का सामना करना पड़ा है। इसी क्रम में एजबेस्टन टेस्ट में भारत की हार के बाद कोच राहुल द्रविड़ से लेकर टीम की गेंदबाजी और बल्लेबाजी पर सवाल खड़े हो रहे हैं। इस साल विदेश में टीम इंडिया के आंकड़े देखकर लगता है कि भारत ‘सात के फेर’ में फंस चुका है और इससे बाहर निकलने के लिए टीम इंडिया को कुछ अलग करना होगा।

इस साल भारत का पहला मैच 3 जनवरी को शुरू हुआ था। पहली पारी में भारत ने सिर्फ 202 रन बनाए, लेकिन दक्षिण अफ्रीका को भी 229 के स्कोर पर समेट दिया। पहली पारी में अफ्रीका के पास सिर्फ 27 रन की बढ़त थी। भारतीय टीम मैच में बनी हुई थी। इसके बाद दूसरी पारी में भारत के बल्लेबाज कुछ खास नहीं कर पाए।

टीम इंडिया ने कुल 266 रन बनाए और दक्षिण अफ्रीका के सामने 240 रन का लक्ष्य रखा। जोहानिसबर्ग की पिच पर यह लक्ष्य बहुत ज्यादा छोटा नहीं था, लेकिन मैच की चौथी पारी में भारतीय गेंदबाज फ्लॉप साबित हुए। दक्षिण अफ्रीका ने 3 विकेट खोकर लक्ष्य का पीछा कर लिया और भारत 7 विकेट से मैच हार गया।