Khalini में बनेगा Shimla का पहला फ्लाईओवर, Traffic जाम की समस्या से मिलेगी निजात

Spread the News

शिमला : टूटीकंडी-ढली बाईपास पर सफर करने वालों के लिए खलीनी शिमला का प्रवेश द्वार है। खलीनी से न सिर्फ वाहन चालक ढली अथवा जुन्गा की तरफ जा सकते हैं, बल्कि खलीनी चौक से ऊपर चढ़कर लिफ्ट अथवा छोटा शिमला भी पहुंच सकते हैं। बीते सालों में खलीनी में रोजाना ट्रैफिक जाम की समस्या के मद्देनजर सरकार ने खलीनी के ऊपरी चौक से वर्कशॉप तथा कुछ दुकानों को हटा कर इसे चौड़ा किया तथा यहां से सड़क को बाईपास से जोड़ा। इस सड़क के बन जाने से शहर वासियों को कुछ सालों तक ट्रैफिक जाम से निजात अवश्य मिली। मगर अब खलीनी चौक बॉटलनेक में तब्दील हो गया है। खलीनी में रोजाना लगने वाले ट्रैफिक जाम से लोग परेशान हैं। 20 मिनट के सफर के लिए लोगों को कई बार यहां एक से डेढ़ घंटे तक भी इंतजार करना पड़ता है। मगर अब सरकार ने खलीनी में फ्लाई ओवर बनाने की योजना को धरातल पर उतारना शुरू कर दिया है।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने खलीनी में 9.82 करोड़ की लागत से बनने वाले फ्लाई ओवर की आधारशिला रखी। शिमला के विधायक एवं शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज भी इस मौके पर मुख्यमंत्री के साथ थे। शिमला में बनने वाला यह पहला फ्लाई ओवर होगा। फ्लाई ओवर अर्थात एलिवेटिड रोड के बनने से लोगों को खलीनी में ट्रैफिक जाम की समस्या से निजात मिलेगी। फ्लाई ओवर बनने से आईएसबीटी से ढली की तरफ जाने वाले वाहन इसके ऊपर से निकल जाएंगे। माना जा रहा है कि बाकी के वाहन पहले वाली ही सड़क पर चलेंगे। इससे खलीनी चौक में ट्रैफिक जाम की समस्या काफी हद तक खत्म होगी।

शिमला में यातायात व्यवस्था को सुचारू बनाने को सड़कों को चौड़ा करने की दरकार

खलीनी के अलावा शिमला में बालूगंज मंदिर तथा बाजार के साथ साथ लिफ्ट के समीप पार्किग, कार्ट रोड से सब्जी मंडी की तरफ जाने वाली सड़क व कुछ अन्य स्थल बॉटल नेक में तब्दील हो गए हैं। शिमला में यातायात व्यवस्था को सुचारू बनाने के मकसद से इन बॉटलनेक के समीप भी सड़क को चौड़ा करने की दरकार हैं।