Gemology: राशि अनुसार ही धारण करें रत्न वरना फायदे की ज़गह हो सकता है नुकसान

Spread the News

रत्न हमारे जीवन का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है। इन्हें धारण करने से हमारी बहुत सी समस्या का समाधान होता है। लेकिन हमें हमेशा अपनी राशि और अपनी समस्या के अनुसार ही रत्न धारण करना चाहिए नहीं तो उसका फायदा होने के स्थान पर नुकसान भी हो सकता है। रत्नों में कुछ पांच रत्न बहुत ही विशेष माने जाते है। आइए जानते है :

मोती रत्न और इसके लाभ:
मोती रत्न गोल और सफेद रंग का होता है। जो समुद्र में सीपियों से प्राप्त किया जाता है। इस रत्न के स्वामी चंद्रमा ग्रह माना जाता है। कर्क राशि के जातकों के लिए ये विशेष रूप से लाभकारी माना गया है। चंद्रमा हमारे मस्तिष्क और मन पर सबसे अधिक प्रभाव डालता है। मन को शांत और दिमाग को स्थिर बनाने के लिए इस रत्न को लोग धारण करते हैं। जिन लोगों को डिप्रेशन होता है वो लोग भी मोती रत्न धारण कर सकते हैं।

ये लोग कर सकते हैं धारण:
ज्योतिष शास्त्र अनुसार चंद्रमा की महादशा होने पर मोती पहनना अच्छा माना जाता है। राहु या केतु की युति में भी मोती अच्छा रहता है। चंद्रमा अगर पाप ग्रहों की दृष्टि में है तब भी मोती धारण करने की सलाह दी जाती है। चंद्रमा अगर जन्म कुंडली में 6, 8 या 12 भाव में स्थित है तब भी आप मोती पहन सकते हैं। चंद्रमा क्षीण हो या सूर्य के साथ हो तब भी आप मोती पहन सकते हैं। कुंडली में अगर चंद्रमा कमजोर स्थिति में है तो भी चंद्रमा का बल बढ़ाने के लिए मोती धारण कर सकते हैं। मीन लग्न वाले जातकों की कुंडली में चन्द्रमा पांचवे घर का मालिक होता है, और ये स्थान शुभ होता है, इसलिए मीन राशि के जातकों को मोती अवश्य पहनना चाहिए। अगर आप स्टूडेंट हैं तो आपको मोती पहनने से सक्सेस मिल सकती है।

इस विधि से करें धारण:
रत्न शास्त्र के अनुसार मोती को चांदी की अंगूठी में ही पहनना चाहिए। शुक्ल पक्ष के सोमवार की रात में इसे हाथ की सबसे छोटी उंगली में धारण करना चाहिए। कई लोग इसे पूर्णिमा के दिन भी पहनने की सलाह देते हैं। क्योंकि पूर्णिमा को चंद्रमा में पूर्ण शक्ति होती है। इस रत्न को पहनने से पहले इसे गंगाजल से धो लें फिर इसे शिवजी को अर्पित करने के बाद ही धारण करें।