Health: दुनियाभर में 1 अरब से अधिक लोग माइग्रेन से पीड़ित, योग, एक्यूपंक्चर या ध्यान से कर सकते हैं उपचार

Spread the News

कोलोराडो: माइग्रेन की वजह से सिर में होने वाला दर्द वर्तमान में दुनिया भर में एक अरब से अधिक लोगों को प्रभावित कर रहा है और दुनिया भर में विकलांगता का दूसरा प्रमुख कारण हैं। लगभग एक-चौथाई अमरीकी परिवारों में कम से कम एक सदस्य माइग्रेन से पीड़ित है। हर साल माइग्रेन के सिरदर्द के परिणामस्वरूप अनुमानित 8 करोड़ 56 लाख कार्यदिवसों का नुक्सान होता है।

फिर भी बहुत से लोग जो माइग्रेन से पीड़ित हैं, वे इसका इलाज करने की बजाय अपने दर्द को केवल एक बुरा सिरदर्द कहकर खारिज कर देते हैं, जिससे स्थिति अक्सर अनियंत्रित हो जाती है, तब भी जब दर्द के साथ अन्य लक्षण होते हैं, जिसमें प्रकाश और ध्वनि संवेदनशीलता, मतली, उल्टी और चक्कर आना शामिल है। शोधकर्त्ताओं ने पता लगाया है कि जेनेटिक्स और पर्यावरणीय कारक माइग्रेन की स्थिति में एक भूमिका निभाते हैं।

ऐसा तब होता है, जब आपके मस्तिष्क तंत्र में परिवर्तन ट्राइजेमिनल तंत्रिका को सक्रिय करते हैं, जो दर्द मार्ग में एक प्रमुख तंत्रिका
है। कुछ लोगों के लिए दवा की अपनी सीमाएं होती हैं। माइग्रेन परेशान करने वाला हो सकता है। जिन लोगों को यह होता है, वह अक्सर केवल अपने दर्द के साथ एक अंधेरे कमरे में सिमटे पड़े रहते हैं। दर्द के यह दौर कई दिनों तक चल सकते हैं; इनके कारण जिंदगी जैसे रुक सी जाती है। प्रकाश और ध्वनि के प्रति संवेदनशीलता, बीमारी की अप्रत्याशितता के साथ, कई लोगों को काम, स्कूल, सामाजिक समारोहों और परिवार के साथ समय बिताने से रोकने का कारण बनती है।

माइग्रेन की रोकथाम और उपचार दोनों के लिए कई नुस्खे दवाएं उपलब्ध हैं, लेकिन कई लोगों के लिए पारंपरिक उपचार की अपनी सीमाएं होती हैं।

विकल्पों का करें उपयोग

अगर दर्द गर्दन में अकड़ने के कारण है, तो फीजियोथैरेपी या मालिश सबसे अधिक फायदेमंद हो सकती है। यदि दर्द का कारण तनाव है, तो शायद ध्यान शुरू करने के लिए यह एक उपयुक्त समय होगा। यह पता लगाने के लिए यह जान लेना उचित होगा कि कौन से विकल्प आपके लिए सबसे अच्छा काम कर सकते हैं।

माइंडफुलनैस, मैडीटेशन और बहुत कुछ

. चूंकि तनाव माइग्रेन के लिए एक प्रमुख ट्रिगर है, सबसे प्रभावी वैकल्पिक उपचारों में से एक माइंडफुलनेस मैडीटेशन है, जो बिना किसी पूर्वाग्रह के वर्तमान क्षण पर आपका ध्यान केंद्रित करने का कार्य करता है। अध्ययनों से पता चलता है कि माइंडफुलनेस मैडीटेशन सिरदर्द की आवृत्ति और दर्द की गंभीरता को कम कर सकता है।
. एक अन्य उपयोगी उपकरण बायोफीडबैक है, जो एक व्यक्ति को वास्तविक समय में अपने महत्वपूर्ण लक्षणों को देखने में सक्षम बनाता है और फिर उन्हें स्थिर करना सीखता है।
. योग पारंपरिक भारतीय दर्शन से निकला है और मन, शरीर और आत्मा को एकजुट करने के लक्ष्य के साथ शारीरिक मुद्रा, ध्यान और श्वास अभ्यास को जोड़ता है। लगातार योग का अभ्यास तनाव को कम करने और माइग्रेन के इलाज में सहायक हो सकता है।

खिंचाव-आधारित चिकित्सा

फीजिकल थैरेपी में मायोफेशियल और ट्रिगर-प्वाइंट रिलीज, पैसिव स्ट्रेचिंग और सर्वाइकल ट्रैक्शन जैसी मैनुअल तकनीकों का उपयोग किया जाता है, जो एक कुशल हाथ से या चिकित्सा उपकरण के साथ सिर पर हल्का खिंचाव देता है। अध्ययनों से पता चलता है कि दवा के साथ भौतिक चिकित्सा केवल दवाओं पर माइग्रेन आवृत्ति, दर्द की तीव्रता और दर्द की धारणा को कम करने में बेहतर रही। तनाव के स्तर को कम करके और विश्राम को बढ़ावा देकर, मालिश से माइग्रेन की आवृत्ति कम हो सकती है और नींद में सुधार हो सकता है। यह मालिश के बाद के दिनों में तनाव को भी कम कर सकता है, जो माइग्रेन के हमलों से और सुरक्षा प्रदान करता है। कुछ रोगियों को पारंपरिक चीनी चिकित्सा के एक रूप, एक्यूपंक्चर से मदद मिलती है। इस प्रक्रिया में उपचार के लिए त्वचा पर विशिष्ट स्थानों में बारीक सुइयां चुभोई जाती है।

उपकरण भी हो सकते हैं फायदेमंद

फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने माइग्रेन के इलाज के लिए तंत्रिका तंत्र को सक्रिय करने वाले कई उपकरणों को मंजूरी दी है। ये उपकरण मस्तिष्क से भेजे गए दर्द संकेतों को बेअसर करके काम करते हैं। यह जरूरी नहीं है कि वैकल्पिक उपचार चमत्कारिक रूप से इलाज करें, लेकिन दर्द और पीड़ा को दूर करने की उनकी क्षमता उल्लेखनीय है। एक चिकित्सक के रूप में मेरे कुछ रोगियों को इन उपचारों से ठीक होते हुए देखना वास्तव में संतुष्टिदायक है।

ये उपाय भी हैं मददगार

. माना जाता है कि मैग्नीशियम मस्तिष्क में रक्त वाहिकाओं और विद्युत गतिविधि को विनियमित करने में मदद करता है। एक अध्ययन में पाया गया कि 12 सप्ताह तक प्रतिदिन 600 मिलीग्राम मैग्नीशियम साइट्रेट देने वाले रोगियों में माइग्रेन में 40 प्रतिशत की कमी आई। साइड इफैक्ट में लगभग 20 प्रतिशत रोगियों में दस्त शामिल थे।
. विटामिन बी2 या राइबोफ्लेविन भी माइग्रेन की रोकथाम में उपयोगी माना जाता है। जब 12 सप्ताह के लिए प्रतिदिन 400 मिलीग्राम की खुराक ली गई, तो शोधकर्त्ताओं ने पाया कि आधे से अधिक प्रतिभागियों में यह माइग्रेन की आवृत्ति को आधा कर देता है।
. एक अन्य लाभकारी पूरक कोएंजाइम क्यू10 है, जो सैलुलर ऊर्जा उत्पादन में शामिल है। 3 महीने के बाद, 100 मिलीग्राम कोएंजाइम क्यू10 को दिन में तीन बार लेने वालों में से आधे लोगों में माइग्रेन के हमलों की संख्या आधी थी।