पानी के रेट में बढ़ोतरी करके सरकार ने जनता के जले पर छिड़का नमक: हुड्डा

Spread the News

पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि पानी के रेट में बेतहाशा बढ़ोतरी करके बीजेपी-जेजेपी सरकार ने जनता के जले पर नमक छिड़कने का काम किया है। हरियाणा वाटर रिसोर्स अथॉरिटी की तरफ से जारी टैरिफ में पेयजल से लेकर इंडस्ट्री तक को मिलने वाले पानी में 250 से लेकर 500 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी की है। आम आदमी को पीने के लिए मिलने वाले पानी के रेट को 25 रु पये से सीधे 5 गुना बढ़ाकर 125 रुपये कर दिया है। पहले से ही हरियाणा की जनता देश में सबसे ज्यादा महंगाई की मार झेल रही है।

प्रदेश की जनता पर अतिरिक्त बोझ डालकर सरकार ने एकबार फिर अपनी जनविरोधी मानसिकता का परिचय दिया है। हुड्डा ने कहा कि महामारी, मंदी और महंगाई के बोझ तले दबी जनता को राहत देने की बजाय सरकार लगातार उसकी जेब पर डाका डालने में लगी है। सरकार को बढ़े हुए रेट फौरन वापस लेकर और आम आदमी को जरूरत के मुताबिक स्वच्छ जल की उपलब्धता सुनिश्चित करनी चाहिए। उन्होंने बुजुर्गों और बेसहारा बच्चों को मिलने वाले पेंशन कटौती पर भी कड़ी आपत्ति जाहिर की है।

उन्होंने कहा कि मार्च 2022 से लेकर अब तक सरकार 5 लाख 14 हजार लोगों की पेंशन काट चुकी है। इसमें 4,76,000 बुजुर्ग और 38,000 बेसहारा बच्चे शामिल हैं, जिनको मिलने वाली आर्थिक मदद इस सरकार ने बंद कर दी है। संवेदनहीनता की सारी हदें लांघते हुए बीजेपी जेजेपी सरकार ने बेसहारों का सहारा छीनने से भी गुरेज नहीं किया। सरकार के ऐसे जनविरोधी फैसलों का कांग्रेस पुरजोर विरोध करती है। इसलिए हर मंच पर सरकार के ऐसे जनविरोधी फैसलों का कड़ा विरोध किया जाएगा। इसकी गूंज आने वाले विधानसभा सत्र में भी सुनाई देगी और 21 अगस्त को यमुनानगर में होने वाले विपक्ष आपके समक्ष कार्यक्र म में भी।